प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना 2023: किसान रजिस्ट्रेशन

प्राकृतिक आपदाओं के कारण होने वाली फसल के नुकसान की वजह से किसानों की आर्थिक स्थिति भी खराब हो जाती है. इसलिए, किसानों की फसल के संबंध में अनिश्चितताओं को दूर करने के लिए 13 जनवरी 2016 को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को मंजूरी दी गई.

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, किसानों की फसल को प्राकृतिक आपदाओं के कारण हुई हानि को किसानों के प्रीमियम का भुगतान देकर एक सीमा तक मदद करती है. जिससे किसानों को ज्यादा नुकशान उठाने की न आवश्यकता पड़े.

यह योजना भारत के प्रत्येक राज्य में संबंधित राज्य सरकारों के साथ मिलकर कार्य करती है. प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का प्रशासन कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा नियंत्रित एवं संचालित किया जाता है.

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना 2023

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 18 फरवरी को शुरू की गई प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना  किसानों के लिए उनकी उपज के लिए एक बीमा सेवा है।

इसे पहले की दो योजनाओं राष्ट्रीय कृषि बीमा योजना (National agricultural Insurance scheme) और संशोधित राष्ट्रीय कृषि बीमा योजना (Modified National agricultural Insurance Scheme) को उनकी सर्वोत्तम विशेषताओ को शामिल करके और उनकी अंतनिर्हित कमियों को दूर करके एक राष्ट्र एक योजना थीम के अनुसार तैयार किया गया था।

इसका उद्देश्य किसानों पर प्रीमियम का बोझ कम करना और पूर्ण बीमा राशि के लिए फसल आश्वासन दावे का शीघ्र निपटान सुनिश्चित करना है।

अवश्य पढ़े, अन्‍त्‍योदय अन्‍न योजना

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का उदेश्य

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का उद्देश्य फसल की विफलता के खिलाफ़ एक व्यापक बीमा कवर प्रदान करना है जिससे किसानों की आय को स्थिर करने में मदद मीलती है। इस योजना में सभी खाद्य और तिलहन फसलों और वार्षिक बागवानी फसलों को शामिल किया गया है।

और जिसके लिए सामान्य फसल अनुमान सर्वेक्षण (GCES :- General crop Estimation) के तहत अपेक्षित संख्या में फसल कटाई प्रयोग (CCES:- Crop cutting experiments) आयोजित किए जा रहे हैं।

अधिसूचित फसलों के लिए फसल ऋण, केसीसी खाते का लाभ उठाने वाले ऋणी किसानों के लिए योजना अनिवार्य है और अन्य के लिए स्वेच्छिक है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का संचालन कृषि मंत्रालय द्वारा किया जा रहा है।

योजना का उद्देश्य

  1. प्राकृतिक आपदाओं, कीटों और रोगों के परिणाम स्वरूप किसी भी अधिसूचित फसल की विफलता की स्थिती में किसानों को बीमा कवरेज और वित्तीय सहायता प्रदान करना।
  2. किसानों की खेती में निरंतरता सुनिश्चित करने के लिए उनकी आय को सिथिर ( Ensure) करना।
  3. किसानों को नवीन और आधुनिक कृषि को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करना।
  4. कृषि क्षेत्र को ऋण का प्रभाव सुनिश्चित करना।

PMFBY Scheme

योजना का नामप्रधानमंत्री फसल बीमा योजना
विभागमिनिस्ट्री ऑफ एग्रीकल्चर एंड फार्मर्स वेलफेयर
लाभार्थीदेश के किसान
ऑनलाइन आवेदन के आरंभ तिथिआरंभ है
ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथिखरीफ फसल के लिए
उद्देश्यदेश के किसानों को सशक्त बनाना
सहायता राशि₹200000 तक का बीमा
योजना का प्रकारकेंद्र सरकार की योजना
आधिकारिक वेबसाइटhttps://pmfby.gov.in

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की गतिविधि

प्रत्येक अधिसूचित फसल के नामांकन की कटऑफ तिथि जिलों के फसल कैलेंडर पर आधारित होती है.

  • Kharif :- 15th july &31st july
  • Rabi :- 15th october & 31st December

राज्यों / संघ राज्य क्षेत्रों द्वारा अधिसूचित फसलों के लिए कट ऑफ तिथि या स्थानीय मौसम की स्थितियां स्थानीय परिस्थितियों के अनुसार तय की जा सकती है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना गतिविधि कैलेंडर

गतिविधि कैलेंडरखरीफरबी
अनिवार्य आधार पर लोनी किसानों के लिए स्वीकृत ऋण।अप्रैल से जुलाई तकअक्टूबर से दिसम्बर तक
किसानों के प्रस्तावों की प्राप्ति के लिए कट ऑफ़ तारीख (ऋणदाता और गैर-ऋणदाता)।31 जुलाई31 दिसम्बर
उपज डेेटा प्राप्त करने के लिये कट आफ तारीखअतिंम फसल के एक महीने के भीतरअतिंम फसल के एक महीने के भीतर

PMFBY रबी सीजन 2022 – 23 के लिए प्रीमियम की राशि

यह समय अनुसार बदलता रहता है. इसलिए, अधिक जानकारी के लिए ऑफिसियल वेबसाइट https://pmfby.gov.in पर जाए.

फसल का नामप्रति हेक्टेयर प्रीमियम की राशि
गेहूंRs 11000.90
जौRs 661.62
सरसोंRs 681.09
चनेRs 505.95
सूरजमुखीRs 661.62

PMFBY प्रति हेक्टेयर बीमित राशि

फसल का नामप्रति हेक्टेयर बीमित राशि
गेहूंRs 67460
जौRs 44108
सरसोंRs 45405
चनेRs 33730
सूरजमुखीRs 44108

इसे भी पढ़े,

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की उपलब्धियाँ

  • स्वतंत्र भारत के इतिहास में और विश्व स्तर पर सबसे बड़ी फसल बीमा योजना( Largest crop insurance scheme), प्रीमियम के मामले में तीसरी सबसे बड़ी योजना है।
  • 2016 से 29.19 करोड़ किसान आवेदनों ने प्रधानमंत्री किसान बीमा योजना के तहत अपनी फसलों का बीमा किया है।
  • वर्ष 2016 योजना के शुभारंभ के बाद से किसानों को कुल 17,000 करोड़ रुपए के प्रीमियम के मुकाबले 95,000 करोड़ रुपये से अधिक के दावे प्रदान किए गए हैं।
  • भारत के सभी किसानों के लिए न्यूनतम प्रीमियम- सभी खरीफ खाद्य और तिलहन फसलों के लिए 2%, रवि खाद्य और तिलहन फसलों के लिए 1.5% और वार्षिक बागवानी फसलों के लिए 5%है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के नए प्रावधान

New provisions in the operational guidelines of PMFBY के आने वाले महत्वपूर्ण तथ्य:

1. राज्यों, बीमा कंपनियों( Insurance companies :-ICs) और बैंको के लिए दंड प्रोत्साहन का प्रावधान अर्थात बीमा कंपनी द्वारा किसानों को भुगतान की जाने वाली 12% ब्याज दर निर्धारित कट ऑफ तिथि मैं कर देनी  होगी।

इसी तरह राज्य सरकार निर्धारित कट ऑफ तिथि बीमा कंपनियों द्वारा मांग प्रस्तुत करने के तीन महीने से अधिक समय तक सब्सिडी के राज्य के हिस्से को जारी करने में देरी करने के लिए 12%ब्याज दर का भुगतान करना होगा।
2. ICs के प्रदर्शन मूल्यांकन और उनके पैनल से हटाने के लिए विस्तृत एसओपी(SOP) की पूरी जानकारी देनी होगी।
3. प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के दायरे में बारहमासी बागवानी फसलों को शामिल करना और वार्षिक तिलहन फसलों के कवरेज की परिकल्पना की गई है।
4. (वार्षिक बागवानी फसल) बे मौसम और चक्रवात वर्षा के अलावा फसल के बाद के नुकसान में ओलावृष्टि को शामिल करना।
5. इस प्रावधन की अतिरिक्त वित्तीय देनदारियों के साथ पायलट आधार पर जंगली जानवरों के हमले के कारण फसल के नुकसान के लिए कवरेज पर जोड़ें संबंधित राज्य सरकार द्वारा बहन किया जाएगा।
6. आधार कार्ड को अनिवार्य रूप से कैप्चर करने से डुप्लिकेशन में मदद मिलेंगी।
7. विशेष रूप से गैर ऋणी किसानों (10%वृद्धिशील :- Incremental) के ICs कवरेज के लिए लक्ष्य।
8. प्रीमियम रिलीज प्रक्रिया का युक्तिकरण:-सीज़न की शुरुआत में भारत सरकार, राज्य सब्सिडी के रूप में पिछले वर्ष के संबंधित सीज़न की सब्सिडी के कुल हिस्से 80% के 50% के आधार पर अग्रिम प्रीमियम सब्सिडी जारी करना।

कंपनियों को अग्रिम के लिए कोई अनुमान प्रदान करने की आवश्यकता नहीं है। दूसरी किस्त:-दावों के निपटान के लिए पोर्टल पर स्वीकृत व्यवसायिक आंकड़ों के आधार पर शेष प्रीमियम और प्रोटोकोल पर अंतिम व्यवसायिक आंकड़ों के आधार पर पेट्रोल पर संपूर्ण कवरेज डेटा के मिलान के बाद अंतिम किस्त दी जाती है।
9. L1 की गणना और अधिसूचना के लिए उच्च प्रीमियम वाली फसलों को शामिल करने के लिए राज्यों को निर्णय लेने की अनुमति दी गई है।
10. अंतिम सब्सिडी की दूसरी किस्त के प्रतीक्षा किए बिना दावों का निपटान के लिए दावा कर सकते हैं।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना बीमा की इकाई

  • प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को क्षेत्र दृष्टिकोण के आधार पर लागू किया जाएग,यानी व्यापक आपदाओं के लिए प्रत्येक अधिसूचित फसल के लिए परिभाषित क्षेत्र, इस धारणा के साथ कि बीमा की एक इकाई में सभी बीमित किसानों को फसल के लिए “अधिसूचित क्षेत्र”के रूप में परिभाषित किया जाएगा।
  • परिभाषित क्षेत्र ( अर्थात बीमा का इकाई क्षेत्र ) ग्राम/ग्राम पंचायत स्तर है, चाहे किसी भी नाम से इन क्षेत्रों को प्रमुख फसलों के लिए बुलाया जा सकता है और अन्य फसलों के लिए यह ग्राम/ग्राम पंचायत के स्तर से ऊपर के आकार की इकाई हो सकती है।
  •  समय के साथ, बीमा की इकाई अधिसूचित फसल के लिए समरूप जोखिम प्रोफ़ाइल बाला भूभाग ( Good mapped) /भू मानचित्र ( homogenous) क्षेत्र हो सकता है।
  • स्थानीय आपदाओं के जोखिम और परिभाषित जोखिम के कारण फसल के बाद के नुकसान के लिए बीमा की इकाई व्यक्तिगत किसान का प्रभावित बीमित क्षेत्र होगा।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की पात्रता

  • भारत के सभी किसान इस योजना के लिए पात्र है.
  • प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना बीमा के तहत अपनी ज़मीन पर की गयी खेती का बीमा करवा सकते है
  • साथ ही उधार ली गयी ज़मीन पर की गयी खेती का भी बीमा करवा सकते है.
  • जिस जमीन पर कभी बिमा नही कराया है उस पर बिमा सुनिश्चित कर सकते है.

PMFBY के आवश्यक दस्तावेज़

  • आधार कार्ड
  • किसान का आई डी कार्ड
  • राशन कार्ड
  • बैंक खाता
  • किसान का एड्रेस प्रूफ (जैसे ड्राइविंग लाइसेंस ,पासपोट, वोटर ID कार्ड)
  • खेत मालिक के साथ इकरार की फोटो कॉपी
  • खेत का खाता नंबर /खसरा नंबर के पेपर
  • आवेदक का फोटो
  • किसान द्वारा फसल की वुआई की तारीख 

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में आवेदन कैसे करे

  • ऑनलाइन आवेदन करने के लिए अपना अकाउंट बनाए
  • ऑफिसियल वेबसाइट से रजिस्ट्रेंशन के विकल्प पर क्लिक करे
  • अकाउंट बनाने के बाद पुनः लॉग इन करे और प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना आवेदन फॉर्म पर क्लिक करे
  • फॉर्म खुलने के बाद फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी दर्ज करे
  • आवेदन फॉर्म भरने के बाद “सबमिट” पर क्लिक करे. स्क्रीन पर सक्सेसफुल का मैसेज दिखाई देगा

FAQs

Q. किसान फसल बीमा योजना क्या है?

पीएम फसल बीमा योजना प्राकृतिक आपदाओं से हुए नुकसान की स्थिति में किसानों को किफायती दर पर इंश्योरेंस कवर प्रदान करती है.

Q. फसल बीमा का वेबसाइट क्या है?

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का ऑफिसियल वेबसाइट https://pmfby.gov.in/ है. जहाँ से ऑनलाइन आवेदन के लिए फॉर्म भी भर सकते है.

Q. फसल बीमा का प्रीमियम कितना है?

अधिकतम प्रीमियम सभी खरीफ खाद्य और तिलहन फसलों के लिए 2%, वाणिज्यिक/बागवानी फसलों के लिए 5% है.

Leave a Comment