प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना 2023: ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

महिलाओं को अपेक्षाकृत आसान और जटिलता मुक्त प्रसव कराने में और सक्षम बनाने में मातृ स्वास्थ्य एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। विभिन्न सामाजिक कारको के कारण, अधिकांश महिलाएं गर्भावस्था के अंतिम चरण तक और प्रसव के तुरंत बाद काम करने लगती है, जो उनके स्वास्थ्य पर बुरा असर डालता है, क्योंकि उनके शरीर को पर्याप्त आराम या ठीक होने का समय नहीं मिलता है। यह बच्चे को ठीक से स्तनपान कराने की उनकी क्षमता को प्रभावित करता है। इस चिंता को दूर करने के लिए प्रधानमंत्री के द्वारा प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना 2023 का शुभारंभ किया गया।

इस योजना के अंतर्गत प्रत्येक गर्भवती महिला को 6,000 रूपये का लाभ दिया जाएगा. जो भी इच्छुक उम्मीदवार इस योजना का लाभ प्राप्त करना चाहती है, उन्हें अधिकारिक वेबसाइट पर या आंगनवाड़ी तथा स्वास्थ्य केंद्र में जाकर तीन आवेदन फॉर्म भरने होंगे. फॉर्म कैसे भरना है, और पात्रता एवं दस्तावेज क्या चाहिए इसकी जानकारी निचे उपलब्ध है.

Table of Contents

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना | PMMVY Scheme

Pradhan Mantri Matritva Vandana Yojana पूर्व में इंदिरा गाँधी मातृत्व सहयोग योजना के रूप में जाना था। प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना को वर्ष 2017 में पहली बार जीवित जन्म के लिये 19 वर्ष या उससे अधिक उम्र की गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को प्रत्यक्ष नकद लाभ प्रदान करने के लिए पेश किया गया था।

यह महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा कार्यान्वित एक सामाजिक कल्याण मातृत्व लाभ कार्यक्रम है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2017 के नए साल की पूर्व संध्या पर अपने भाषण में घोषणा की, मातृत्व वंदना योजना को देश के 650 जिलों को कवर करने के लिए बढ़ाया जाएगा।

यह घोषणा इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि दुनिया में सभी मातृ मृत्यु का 17% भारत का है। देश का मातृ मृत्यु 113 अनुपात प्रति 1,00,000 जीवित जन्मों पर आंका गया है, जबकि शिशु मृत्यु दर 32% प्रति 1000 जीवित जन्मों पर आंकी गई है।

उच्च मातृत्व और शिशु मृत्यु दर के प्राथमिक कारणों में गर्भावस्था और प्रसव के दौरान खराब पोषण और अपर्याप्त चिकित्सा देखभाल शामिल हैं।

Pradhan Mantri Matritva Vandana Yojana Highlights

योजना का नामPradhan Mantri Matritva Vandana Yojana
योजना का प्रकारकेंद्र सरकार की योजना
PMMVY Scheme Launched किया गया1 जनवरी 2017
विभागमहिलाओं और बच्चों के विकास मंत्रालय
आवेदन की तिथिआरंभ है
आवेदन की अंतिम तिथिNot Declared
लाभार्थीगर्भवती महिला
उद्देश्यगर्भावस्था, बच्चे के जन्म के समय, और
स्तनपान के समय ज्यादा से ज्यादा देखपाल और सेवा
लाभRs 6000
आवेदन का माध्यमhttps://wcd.nic.in/

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना महत्वपूर्ण बातें

  • प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना, जिसे पहले इंदिरा गाँधी मातृत्व सहयोग योजना के रूप में जाना जाता था, भारत सरकार द्वारा संचालित एक मातृत्व लाभ कार्यक्रम है।
  •  इसे मूल रूप से 2010 में लॉन्च किया गया था और 2017 में इसका नाम बदल दिया गया।
  • यह योजना महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा कार्यान्वित की जाती है।
  •  यह 19 वर्ष या उससे अधिक आयु की गर्भवती और स्थानपान कराने वाली महिलाओं के लिए पहले जीवित जन्म के लिए एक सशस्त्र नकद  हस्तांतरण योजना है।
  • यह महिलाओं को प्रसव और बच्चे की देखभाल के दौरान मजदूरी नुकसान के लिए आंशिक मजदूरी मुआवजा प्रदान करता है। सुरक्षित प्रसव और अच्छे पोषण प्रस्ताव के लिए स्थितियां प्रदान करता है।
  • संस्थागत प्रसव के लिए और JSY के तहत मिलने वाले प्रोत्साहन को मातृत्व लाभ में शामिल किया जाएगा ताकि एक महिला को औसतन ₹76,000 मिले।

अवश्य पढ़े, प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना: पात्रता, उद्देश्य, आवेदन प्रक्रिया

मातृत्व वंदना योजना का इतिहास

योजना के नाम में दो परिवर्तन हुए हैं। 2014 में, “इंदिरागांधी” को योजना के नाम से हटा दिया गया और 2017 में “प्रधानमंत्री मातृ वंदना” योजना बनाते हुए जोड़ा गया।

इस योजना के माध्यम से गर्भवती महिलाओं को ₹5000 (1000 रूपये गर्भावस्था सुरक्षा के लिए) की आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। यह आर्थिक सहायता मुख्यतः तीन किस्तों में प्रदान की जाती है। इस योजना को पुनः सन 2017 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा आरंभ किया गया था।

प्रधानमंत्री गर्भावस्था सहायता योजना में आवेदन के लिए गर्भवती महिलाओ को आंगनवाड़ी या नजदीकी स्वास्थय केंद्र में जाकर पंजीकरण फॉर्म जमा कराना होगा। इस योजना के अंतर्गत महिला तथा बाल विकास मंत्रालय नोडल एजेंसी की तरह कार्य कर रही है ताकि भारत के सभी गर्भवती महिलाओं को सहजता से लाभ प्रदान किया जा सके।

Notes:-

भारत में अधिकांश महिलाओं पर अल्प पोषण का प्रतिकूल प्रभाव जारी है। भारत में हर तीसरी महिला कुपोषित हैं, और हर दूसरी महिला एनीमिक हैं। एक कुपोषित माँ लगभग अनिवार्य रूप से कम वजन के बच्चे को जन्म देती है। जब खराब पोषण गर्भाशय में शुरू होता है, तो यह पूरे जीवन चक्र में फैलता है क्योंकि परिवर्तन काफी हद तक आपरिवर्तनीय होते हैं।

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना का उद्देश्य

Pradhan Mantri Matritva Vandana Yojana के माध्यम से आर्थिक रूप से कमज़ोर वर्ग की गर्भवती महिलाओं को 6,000 रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान करना सरकार की सर्वप्रथम उद्देश्य है। साथ ही गर्भवती महिलाओ और स्तनपान कराने वाली महिलाओ और उनके बच्चे को कुपोषित होने से बचाना तथा मृत्यु दर को कम करना इस योजना के प्रमुख घटक है।

जीवित बच्चे के जन्म से पहले और बाद में माँ को पर्याप्त आराम मिलना महत्वपूर्ण है, यही वजह है कि प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना किसी भी मजदूरी के नुकसान के खिलाफ़ नकद मुआवजा प्रदान करना सुनिश्चित करती है।
प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत बीमारी के जोखिम को कम करने के लिए, अच्छी स्वास्थ्य देखभाल और अच्छी संस्थागत देखभाल को बढ़ावा दिया जाता है।
प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना का उद्देश्य शिशु मृत्यु दर और कुपोषण को कम करना है। अच्छे पोषण और आहार प्रस्ताव को बढ़ावा देकर गर्भवती,स्तनपान कराने वाली माताओं के बीच सवस्थ व्यवहार को बढ़ावा देना है।
गर्भावस्था, प्रसव और स्तनपान के दौरान उचित अभ्यास, देखभाल और संस्थागत सेवा उपयोग को बढ़ावा देना है।
महिलाओं को पोषण और आहार प्रस्ताव का पालन करने के लिए प्रोत्साहित करना, जिसमे पहले छह महीनों के लिए प्रारंभिक और अन्य स्तनपान शामिल हैं।
गर्भवती और स्तनपान कराने वाली माताओं को बेहतर स्वास्थ्य और पोषण के लिए नकद प्रोत्साहन प्रदान करना है।

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना का लाभ कौन उठा सकता है?

  • सभी गर्भवती महिलाएं, स्तनपान कराने वाली महिलाओं को छोड़कर जो सरकार में कार्यरत है, या जिन्हें किसी अन्य कानून के तहत इसी तरह का लाभ मिलता है वे पीएमएमवीवाई का लाभ उठा सकती है।
  • केवल उन महिलाओं के लिए जिनका गर्भधारण 01/01/2017 के बाद शुरू हुआ और गर्भावस्था भी परिवार में पहली संतान होने के नाते।
  • इस योजना के तहत गर्भावस्था महिलाओं को ₹5000, तीन किश्तों में दिए जाते हैं।

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना के लाभ

PMMVY के तहत प्रोत्साहन संवितरण संरचना को तीन किश्तों में विभाजित किया गया है:-

  • इस योजना का लाभ पाने के लिए 3 फॉर्म जैसे: 1A, 1B, 1C भरना है।
  • ऑनलाइन या ऑफलाइन प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना 2022 में आवेदन किया जा सकता है।
  • आंगनवाड़ी केंद्र/अनुमोदित स्वास्थ्य सुविधा में गर्भावस्था के प्रारंभिक पंजीकरण पर ₹1000 दिए जाते हैं।
  • गर्भावस्था के छह महीने के बाद और कम से कम एक प्रसव पर ₹2000 मिलते हैं।
  • बच्चे के जन्म के पंजीकृत होने के बाद, और बच्चे को बीसीजी, ओपीवी, डिप्टी और हेपेटाइटिस बी के लिए टीकाकरण का पहला चक्र किया जाता है।
  • वित्तीय राशि 3 किस्तों यानि पहली क़िस्त में 1000 रुपये, दूसरी क़िस्त में 2000 रूपए और तीसरी क़िस्त में 2000 रुपये लाभार्थी के बैंक खाते में ट्रांसफर की जाती है।

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना के आंकड़े

इस योजना के अंतर्गत 6,000 रूपये का लाभ देश की सभी गर्भवती महिलाओ को मिल रहा है। इस योजना को और गर्भवती महिलाओं तक पहुँचाने एवं इसे सरल बनाने के लिए महिला तथा बाल विकास मंत्रालय नोडल एजेंसी की तरह कार्य कर रही है। प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए उम्मीद्वार को आंगनवाड़ी या निकट स्वास्थय केंद्र में जाकर पंजीकरण फॉर्म भरकर जमा कराना होगा।

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना से सम्बंधित आंकड़े इस प्रकार है:

स्थानपंजीकरण
मेरठ10168
अयोध्या 9383
लखनऊ9046
मुरादाबाद6643
मध्य प्रदेश199329, और भी बढ़ रहा है.

इसे भी पढ़े,

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना 2023 की किश्ते

सरकारी प्रावधान के अनुसार गर्भवती सहायता योजना 2022 के अंतर्गत गर्भवती महिलाओ को मिलने वाली धनराशि  6,000 रूपये  तीन किश्तों में दिए जायेगे.

तीनों किश्तो की सम्पूर्ण विवरण इस प्रकार है:

1. पहली किश्त (INSTALLEMENT)

प्रधानमंत्री गर्भावस्था सहायता योजना की पहली किश्त के लिए आवेदन, गर्भवती महिलाओं को आखिरी महावारी के 150 दिनों के अन्दर करना होता है। पहली किश्त के रूप में सरकार गर्भवती महिला को 1,000 रूपये की आर्थिक सहायता direct बैंक अकाउंट प्रदान करती हैं। इसके लिए महिला को फार्म 1A भरना होता है जिसमे निम्न दस्तावेज की आवश्यकता होती है।

  • MCP कार्ड (मदर एंड चाइल्ड प्रोटेक्शन कार्ड)
  • वोटर ID कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, राशन कार्ड
  • बैंक पास बुक की कॉपी

2. दूसरी किश्त (INSTALLEMENT)

दूसरी किश्त के लिए आवेदन करने के लिए, गर्भवती महिला को एक चेकअप करवाना आवश्यक होता है। टेस्ट होने के पश्चात 180 दिन के अंदर महिला को 2,000 रुपये की सहायता राशि प्रदान की जाती है। इसके लिए फार्म 1B को भरना होता है जिसमे निम्न जानकारी की आवश्यकता होती है।

  • एमसीपी कार्ड की कॉपी
  • एक पहचान पत्र
  • बैंक की पासबुक की कॉपी

3. तीसरी किश्त (INSTALLEMENT)

तीसरी किश्त प्राप्त करने के लिए बच्चे के जन्म के पश्चात उसका पंजीकरण करवाना आवश्यक है। इसके साथ ही बच्चे को 6 महीने के बाद हेपेटाईटिस B, खसरे के टीके आदि की टिके लग जाने के पश्चात् सरकार द्वारा 2,000 रुपये महिला के खाते में ट्रांसफर की जाती है। इसके लिए फार्म 1C को भरना होता है जिसमे निम्न documents की आवश्यकता होती है:

  • एमसीपी कार्ड की कॉपी
  • आधार कार्ड की कॉपी
  • बैंक की पासबुक की कॉपी

Note:-
शेष बचे 1,000 रूपये उन महिलाओं को प्रदान किए जायेंगे जो जननी सुरक्षा योजना की लाभार्थी है।

अवश्य पढ़े, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना: पात्रता, रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना के लिए पात्रता

इस योजना में आवेदन करने के लिए निम्न पात्रता की आवश्यकता होती है:

  • लाभार्थी योजना के अंतर्गत एक ही बार पात्र होगा।
  • जिन महिलाओं की उम्र 19 या उससे अधिक होगी वह प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना का लाभ प्राप्त कर सकती है।
  • नौकरी कर रही महिलाएं इस योजना के पात्र नहीं होंगी।
  • जो किसी अन्य योजना या कानून के तहत समान लाभ प्राप्तकर्ता हैं वे इस योजना के लिए पात्र नही है।
  • जो केंद्रीय या राज्य सरकार या किसी सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम के साथ नियमित रोजगार में हैं वे भी पात्र नही है।
  • आवेदक का बैंक खाता आधार कार्ड से लिंक होना चाहिए।
  • 1 जनवरी 2017 होने वाली गर्भवती महिला इस योजना का एप्लीकेशन फॉर्म भर सकती है।
  • यदि महिला का गर्भपात या बच्चा मृत पैदा होता है तब भी वह इस योजना का लाभ प्राप्त कर पाएंगी।

आवश्यक दस्तावेज

  • माँ एवं बच्चे के प्रोटेक्शन कार्ड की कॉपी।
  • या राशन कार्ड
  • लाभार्थी और उसके पति के पहचान प्रमाण
  • बैंक खाते/डाकघर खाता पासबुक की कॉपी।

अपवाद स्वरूप मामले

  • गर्भपात/मृतजन्म (Miscarriage/Stillbirth) :-गर्भपात या मृत जन्म के मामले में, लाभार्थी अभी भी भविष्य की गर्भावस्था के लिए शेष किस्तों का दावा करने के लिए पात्र हो सकती है। उदाहरण के लिए, जहाँ लाभार्थी को पहली किस्त मिली है और फिर उसका गर्भपात हो गया है, वहाँ अभी भी भविष्य की कर व्यवस्था के लिए शेष किश्तों का दावा करने के लिए पात्र हैं।
  • शिशु मृत्यु (Infant Mortality) :-शिशु मृत्यु दर के मामले में, यदि लाभार्थी को पहले PMMVY योजना के सभी लाभ प्राप्त हुए हैं, तो हुआ उन्हें फिर से प्राप्त करने के लिए पात्र नहीं है।

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना में रजिस्ट्रेशन कैसे करे

  • इसमें पूछी गई सभी जानकारी जैसे लाभार्थी का नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी, पासवर्ड, कैप्चा कोड आदि दर्ज करे।
  • इसके पश्चात रजिस्टर के बटन पर क्लिक करे।
  • इसके बाद सबमिट के बटन पर क्लिक करे।
  • इस प्रकार आप PMMVY Scheme में सफलता पूर्वक पंजीकरण कर पाएंगे।

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना में ऑनलाइन आवेदन कैसे करे

मातृत्व वंदना योजना में ऑनलाइन आवेदन करने के लिए ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर पंजीकरण करना होगा. आवेदन करने की सभी प्रक्रिया निम्न प्रकार है:

  • आवेदन करने के लिए ऑफिसियल वेबसाइट जाएँ और ऑफिसियल वेबसाइट इस होम पेज पर आपको लॉगिन फॉर्म दिखाई देगा।
  • इस लॉगिन फॉर्म में पूछी गयी सभी जानकारी जैसे ईमेल आईडी , पासवर्ड कैप्चा कोड आदि भरे
  • फॉर्म भरने के बाद आपको लॉगिन बटन पर क्लिक करे
  • लॉगिन करने के बाद इस योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन सरलता से कर सकते है

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना में ऑफलाइन आवेदन कैसे करे

  • इस योजना का लाभ उठाने के लिए ऑफलाइन आवेदन निम्न प्रकार से कर सकते है।
  • गर्भवती महिलाओ को ऑफलाइन आवेदन के लिए तीन फॉर्म (1A ,1B ,और 1C) भरने  होंगे।
  • सर्वप्रथम आंगनवाड़ी या निकट स्वास्थ्य केंद्र में जाकर पंजीकरण के लिए पहला फॉर्म  लेकर और उसमे पूछी गयी सभी जानकारी भरकर जमा करे।
  • इसी प्रकार दूसरा फॉर्म और तीसरा फॉर्म  भरकर आंगनवाड़ी या निकट स्वास्थ्य केंद्र में जमा करे।
  • फॉर्म भरने के बाद आंगनवाड़ी या स्वास्थ्य केंद्र वाले आपको एक स्लिप देंगे।
  • अब गर्भवती सहायता योजना 2022 का आवेदन सफलतापूर्वक हो गया।
  • महिला तथा बाल विकास मंत्रालय की ऑफिसियल वेबसाइट http://wcd.nic.in/ से अपना आवश्यक जानकारी डाउनलोड कर सकते है।

मातृत्व वंदना योजना फॉर्म Online

  • सर्वप्रथम Pradhan Mantri Matritva Vandana Yojana की आधिकारिक वेबसाइट पर जाए।
  • होम पेज पर डाउनलोड पीएमएमवीवाई फॉर्म के ऑप्शन पर क्लिक करे।
  • डाउनलोड प्रक्रिया शुरू हो जाएगा।
  • यदि वहाँ समस्या हो रहा हो, तो निचे सभी फॉर्म का लिंक दिया गया है आप यहाँ से डाउनलोड कर सकते है।

पीएम मातृत्व वंदना योजना का हेल्पलाइन नंबर

यदि इन योजना के तहत आवेदन करने में कोई भी परेशानी या दिक्कत आ रही है, तो पीएम मातृत्व वंदना योजना का हेल्पलाइन नंबर 7998799804, 9096210825 पर संपर्क कर सकते है।

ऐसे नंबर गर्भवती महिलाओं को आवेदन करने, बैंक में पैसे ट्रान्सफर नही हो रहा है, डॉक्यूमेंट में दिक्कत आदि जैसे समस्या से निपटने के लिए सरकार द्वारा प्रदान किया गया है जिसपर कोई भी संपर्क कर सकता है।

इसे भी पढ़े,

प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजनाप्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना
स्त्री स्वाभिमान योजनाप्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना
प्रधानमंत्री सोलर पैनल योजनाप्रधानमंत्री सौभाग्य योजना

Leave a Comment