प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना में आवेदन करे: 2023 PMUY

भारत में कई घर आज भी ऐसे है जहां खाना लकड़ियों के चूल्हे पर बनाया जाता हैI चूल्हे से निकलने वाले धुए से लोगो की तबीयत भी ख़राब होती है और दम्मे जैसी खतरनाक बीमारी भी होती हैI सरकार ऐसी मुश्किलों को आसान बनाने के लिए प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना लागू किया।

देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना 1 मई 2016 को उत्तर प्रदेश के बलिया जिले से शुरु की गयी। इस योजना का संचालन केंद्र सरकार के पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय द्वारा किया जाता है. इस योजना के अंतर्गत देश की एपीएल, बीपीएल तथा राशन कार्ड धारक महिलाओं को रसोई गैस उपलब्ध कराना है।

केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई Pradhan Mantri Ujjwala Yojana से गरीब महिलाओं को जल्‍द ही मिट्टी के चूल्‍हे से आजादी मिलेगी। इस योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में खाना पकाने के लिए उपयोग में आने वाले जीवाश्म ईंधन की जगह एलपीजी के उपयोग को बढ़ावा देना है ताकि महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा और उनकी सेहत की सुरक्षा सुनिश्चित किया जा सके।

Table of Contents

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना 2023

Pradhan Mantri Ujjwala Yojana, ministry of Petroleum and Natural Gas द्वारा 1st मई, 2016 में लागू किया गयाI औरतो और बच्चों की सेहत को ध्यान में रखते हुए हमारे प्रधानमंत्री ने इस योजना की शुरुवात की, जिससे लोगो को स्वच्छ खाना पकाने का इंधन भी मिल सके और उन्हें धुएं की परेशानी भी न हो।

प्रधानमंत्री द्वारा इस योजना की शुरुवात 1 मई, 2016 को बलिया जिला, उत्तर प्रदेश में की गयी थी। इस योजना के अंतर्गत गरीबी रेखा से नीचे के परिवार वालो को 5 crore LPG connection देने का वादा किया गया है, और हर कनेक्शन पर Rs. 1600 की धनराशी देने का वादा किया है।

सरकार ने महिला सशक्तिकरण को ध्यान में रखते हुए भारत के ग्रामीण क्षेत्रो में LPG connections महिलाओं के नाम पर दिए जाने की घोषणा की। इस योजना की लागत Rs.8,000 crores है। गरीबी रेखा से नीचे वाले परिवार कौन-कौन से होंगे, ये ‘सामाजिक आर्थिक और जाति जनगणना’ के डेटा / socio economic and caste census data के आधार पर तय किया जायेगा।

PMUY योजना की शुरुवात होने के बाद इसकी कार्यान्वयन दाहोद जिला, गुजरात में किया गया। अब बिहार और उत्तर प्रदेश के कई राज्यों में इसका कार्यान्वयन किया जा चूका है।

इसे भी पढ़े, प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना के लिए आवेदन कैसे करे

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना 2.0 का आरंभ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना 2.0 यानि इस योजना के दुसरें चरण, 10 अगस्त 2021 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से शुरू किया गया। इसके अंतर्गत लाभार्थियों को रिफिल एवं हॉट प्लेट, एलपीजी गैस कनेक्शन निशुल्क प्रदान किया जाएगा।

दूसरे चरण में प्रवासी मजदूरो को भी विशेष राहत प्रदान है। एलपीजी गैस के लिए उन्हें अपने स्थायी पते हेतु राशन कार्ड की आवश्यकता नहीं होगी। वे एक स्वघोषणा पत्र के माध्यम से अपने वर्तमान पते का प्रमाण पत्र पर ही कनेक्शन प्राप्त कर सकते हैं।

इस योजना के अंतर्गत लाभार्थियों को गैस स्टोव खरीदने के लिए ब्याज मुक्त लोन भी मौहियां करवाया जाएगा, जिसके उपयोग से रसोई सम्बंधित कोई भी समान सरलता से ख़रीदा जा सकता है.

Pradhan Mantri Ujjwala Yojana Highlights

योजना का नामप्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना
आरम्भ की गयीकेंद्र सरकार द्वारा
आरम्भ की तिथि1 May 2016
लाभार्थीभारत के नागरिक
उद्देश्यआर्थिक रूप से कमजोर परिवारों को एलपीजी गैस सिलेंडर प्रदान करना, जो गैस सिलेंडर खरीदने में सक्षम नहीं है।
आवेदन की प्रक्रियाऑनलाइन/ऑफलाइन
सहायता राशि1600 रुपये
स्कीम का statusउपलब्ध
Targeted beneficiaries 50 million
श्रेणीकेंद्र सरकारी योजनाएं
विभाग का नामपेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय
वर्ष2023
आधिकारिक वेबसाइटhttps://pmuy.gov.in/

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के महत्वपूर्ण तथ्य

भारत में 24 करोड़ से अधिक घर है, जिनमें से लगभग 10 करोड़ परिवार अभी भी खाना पकाने के ईंधन के रूप में एलपीजी से वंचित हैं और उन्हें खाना पकाने के प्राथमिक स्रोत के रूप में जलाऊ लकड़ी, कोयला, उपले आदि पर निर्भर रहना पड़ता है।

ऐसे ईंधनों को जलाने से निकलने वाला धुआं खतरनाक घरेलू प्रदूषण का कारण बनता है और महिलाओं और बच्चों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है जिससे कई श्वसन रोग / विकार होते हैं।

डब्ल्यूएचओ की एक रिपोर्ट के अनुसार, अशुद्ध ईंधन से महिलाओं द्वारा लिया गया धुआं एक घंटे में 400 सिगरेट जलाने के बराबर है। साथ ही महिलाओं और बच्चों को जलाऊ लकड़ी इकट्ठा करने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती है।

  • पीएम उज्ज्वला योजना के पात्र परिवार को 1600 रुपये प्रदान किए जाएँगे, राशि महिलाओं के खाते में स्थानांतरित किया जाएगा और घरवालों को EMI की सेवा भी जाएगी।
  • प्रत्येक लाभार्थी को महीने में एक फ्री सिलेंडर दिया जाएगा, पहले सिलिंडर की डिलीवरी पर दूसरे किश्त की राशि उपभोक्ता के खाते में ट्रान्सफर की जाएगी।

इसे भी पढ़े, प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना: पात्रता, आवेदन एवं लाभ

PMUY की मुख्य विशेषताएँ

  1. Cabinet committee of economic affairs (CCEA) ने अगले 3 साल के लिए Rs.8000 crore का अनुमोदन दे दिया हैI
  2. Pradhan Mantri Ujjwala Yojana के अंतर्गत गरीबी रेखा से नीचे वाले परिवारों को 5 crore LPG connections के साथ Rs.1,600 आर्थिक सहायता के रूप में दिया जाता है।
  3. 2016 के बजट के भाषण में इस योजना की घोषणा की गयी थी और इस वित्तीय वर्ष में Rs.2000 crore का वित्तीय प्रावधान बनाया गया हैI
  4. कनेक्शन्स महिला लाभार्थियों के नाम पे जारी किया जायेगा।
  5. स्टोव और रिफिल लागत इ.एम्.आई की सुविधा दी जाएगी।
  6. प्रधानमंत्री द्वारा ‘Give It Up Campaign’ में कई मध्य वर्गीय और निम्न मध्य वर्गीय लोगो ने गैस सब्सिडी खुद से छोड़ दीI हमे उनका इसके लिए शुक्रिया करना चाहिए।

PMUY के उद्देश्य

गरीबी रेखा के निचे जीवन यापन कर रहे परिवारों की महिला सदस्यों को मुफ्त रसोई गैस कनेक्शन मुहैया कराने के लिए मंत्रिमंडल ने 8,000 करोड़ रुपये की योजना को मंजूरी दी है। इस योजना का उद्देश्य महिलाओ तथा बच्चो को चूल्हों से निकलनेवाली खतरनाक बीमारी से स्वास्थ्य एवं सुरक्षित रखना है।

  • महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देना।
  • स्वच्छ एवं स्वस्थ खाना पकाने का इंधन देना।
  • लोगो को खतरनाक बीमारियों से दूर रखना जो धुएं से होती है।
  • पीएमयूवाई योजना वर्तमान में देश के 715 जिलों को कवर करती है, जिसे और बढ़ाना है।

उज्ज्वला योजना पीएम का लाभ

  • इस योजना का लाभ गरीबी रेखा से नीचे आने वाली महिलाओ को प्राप्त होगा।
  • अर्थात, योजना के तहत महिला लाभार्थी के नाम से गैस कनेक्शन जारी होगा।
  • देश की महिलाओ को निशुल्क LPG गैस कनेक्शन उपलब्ध कराया जायेगा ।
  • उज्ज्वला योजना का लाभ 18 वर्ष से अधिक उम्र वाले महिलाओ को प्राप्त।
  • कोई भी महिला पीएम उज्ज्वला योजना हेतु आवेदन करने के लिए स्वतंत्र है।
  • गैस कनेक्शन लगवाने के लिए 1,600 रुपये की वित्तीय राशि भी प्रदान किया जाएगा
  • उज्ज्वला योजना के तहत 8 करोड़ घरों में मुफ्त गैस कनेक्शन का लाभ प्रदान करना है।
  • पहली बार गैस सिलिंडर और चूल्हा खरीद खरीदने पर उन्हें EMI की सुविधा भी प्रदान की जाएगी।
  • लाभार्थी को एक महीने मुफ्त सिलिंडर मिलेगा, और दूसरे गैस सिलिंडर लेने के लिए किश्त लाभार्थी के बैंक खाते में भेज दी जाएगी।

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना से भविष्य में होने वाले लाभ

  • इस योजना के शुरू होने से जंगलों की कटाई में कमी होगी।
  • महिलाओं को स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को नहीं झेलना पड़ेगा।
  • इस योजना के प्रारंभ होने से खाने पर धुंआ के असर से मृत्यु दर में कमी होगी।
  • साथ ही छोटे बच्चे के स्वास्थ्य की समस्या कम होगी।
  • प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के प्रारंभ होने से शुद्ध जल के प्रयोग से महिलाओं का स्वास्थ्य सुधरेगा।
  • अशुद्ध जीवाश्म इंधन के प्रयोग करने वाले वातावरण में कम प्रदूषण होगा।
  • इस योजना के माध्यम से स्त्री सशक्तिकरण को बढ़ावा और महिलाओं के स्वास्थ्य की सुरक्षा करनी है।
  • उपयोग में आने वाले अशुद्ध जीवाश्म ईंधन के उपयोग को कम करना और शुद्ध ईंधन के उपयोग को बढ़ाकर प्रदूषण में कमी लाना है।

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के लिए पात्रता

Pradhan Mantri Ujjwala Yojana के लिए पात्र बीपीएल परिवारों की सूची राज्य सरकार और केंद्र शासित प्रदेशों की मदद से तैयार की जाती है। अर्थात यह सुनिश्चित किया जाता है कि इस योजना के लिए कौन पात्र है और कौन नही। पात्रता के मुख्य बिंदु इस प्रकार हैं:

  • केवल महिला उम्मीदवार ही पात्र है
  • बीपीएल  परिवार से सम्बन्ध रखने वाली महिला ही होनी चाहिए
  • आवेदक की उम्र 18 साल या इससे अधिक होनी चाहिए 
  • घर में किसी के नाम से एलपीजी  कनेक्शन नहीं होना चाहिए
  • आवेदक के पास बैंक का खाता होना चाहिए
  • उम्मीदवार के पास बीपीएल प्रमाण पत्र अथवा बीपीएल  राशन कार्ड का होना चाहिए
  • लाभकारी का नाम निम्नलिखित लिस्ट में से किसी एक में दर्ज रहना चाहिए:
    SECC 2011 or BPL households under SC/ST households, PMAY (Gramin), AAY, Most Backward Classes (MBC), forest dwellers, people residing in river islands or Tea and Ex-Tea Garden TribesI

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना लाभार्थी

  • वह नागरिक जो अंत्योदय अन्न योजना के तहत लाभा प्राप्त कर रहे हो, वो भी योग्य है
  • प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के सभी एससी / एसटी परिवारों के लोग
  • सेक्शन-11 के तहत लाभार्थी लिस्ट में आने वाली सभी महिलाएं।
  • BPL(गरीबी रेखा से नीचे) श्रेणी में आने वाले लोग।
  • वनवासी लोगो के परिवार।
  • चाय बागान जनजाति वाले लोग।
  • वनवासी।
  • अधिकांश पिछड़ा वर्ग।
  • द्वीप में रहने वाले लोग।
  • नदी के द्वीपों में रहने वाले लोग।

PMUY के लिए आवश्यक दस्तावेज़

  • नगर पालिका अध्यक्ष या पंचायत प्रधान द्वारा जारी बीपीएल प्रमाण पत्र/ BPL certificate issued by the municipality chairman or panchayat pradhan
  • जाति प्रमाण पत्र/ Caste certificate
  • एक पासपोर्ट आकार का फोटो/ One passport-sized photograph
  • फोटो पहचान प्रमाण/ Photo identity proof
  • पते का सबूत/ Address proof
  • बीपीएल राशन कार्ड/ BPL ration card
  • बिजली या पानी का बिल
  • परिवार के सभी सदस्यों के आधार नंबर/ Aadhaar numbers of all the members of the family
  • बैंक पासबुक या जन धन बैंक खाते का विवरण/ Bank passbook or details of Jan Dhan bank account
  • निर्धारित प्रारूप में विधिवत हस्ताक्षरित 14 सूत्री घोषणा पत्र/ Duly signed 14-point declaration in the prescribed format

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना में ऑफलाइन आवेदन कैसे करे

PMUY योजना के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए पंजीकरण प्रक्रिया का उल्लेख नीचे किया गया है।

Step 1. आवेदन पत्र निकटतम एलपीजी वितरक से प्राप्त करें या योजना की आधिकारिक वेबसाइट से डाउनलोड करे
Step 2.फॉर्म में पूछी गयी जानकारी जैसे आधार कार्ड नंबर ,मोबाइल नंबर ,नाम ,पता आदि सही सही भरे
Step 3. एलपीजी वितरक कार्याल
Step 4. एक बार आवेदन जमा करने के बाद, इसे संसाधित किया जाएगा। दस्तावेजों के सत्यापन और पात्रता की जांच के बाद विभिन्न तेल विपणन कंपनियों द्वारा एलपीजी कनेक्शन जारी किया जाएगा।

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना में ऑनलाइन आवेदन करे

  • सर्वप्रथम प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएँ।
  • आपके सामने होम पेज खुलेगा
  • होम पेज से “अप्लाई फॉर PMUY कनेक्शन” के विकल्प पर क्लिक करे
  • आपके सामने एक डायलॉग बॉक्स खुलेगा
  • निम्नलिखित ऑप्शन में से किसी एक का चयन करे
  • क्लिक हियर टू अप्लाई (इंडेन)
  • (भारत गैस) क्लिक हियर टू अप्लाई
  • क्लिक हियर टू अप्लाई (एचपी)
  • इसमें में किसी एक पर क्लिक करने पर आपके सामने एक नया पेज खुलेगा
  • पूछी गई जानकारी जैसे डिस्ट्रीब्यूटर का नाम, आपका नाम, आपका पता, मोबाइल नंबर, पिन कोड आदि दर्ज करे
  • इसके बाद अपने सभी महत्वपूर्ण दस्तावेजों को अपलोड करे
  • पुनः अप्लाई के विकल्प पर क्लिक करे
  • इस तरह आप प्रधान मंत्र उज्ज्वला में आवेदन सफलता पूर्वक कर पाएँगे

मुफ्त एलपीजी का लाभ उठाने के लिए PMUY नई सूची की जांच कैसे करें?

नीचे दिए गए चरणों का पालन करके मुफ्त गैस की नई सूची देख सकते हैं:

  • सबसे पहले प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की ऑफिसियल वेबसाइट www.pmuy.gov.in पर जाएँ
  • होम पेज पर न्यू लिस्ट के ऑप्शन पर क्लिक करे
  • अपना राज्य, जिला, ब्लॉक, पंचायत को सेलेक्ट करे
  • फिर सबमिट के ऑप्शन पर क्लिक करे
  • वहां से ‘new list’ आप्शन का चयन करे
  • आपके सामने लिस्ट आ जाएगा, जिसमें अपना नाम भी ढूंड सकते है और लिस्ट डाउनलोड भी कर सकते हैI

Pradhan Mantri LPG Panchayat/ प्रधान मंत्री एलपीजी पंचायत

‘प्रधान मंत्री एलपीजी पंचायत’ एक ऐसा आयोजन है जिसमें प्रधानमंत्री और पीएमयूवाई योजना के लाभार्थियों के बीच बैठक होती है ताकि लाभार्थी अपनी चिंताओं को उठा सकें, यदि उनके पास योजना की सेवाओं के बारे में कोई है। सरकार द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, ये बैठकें सरकार और लाभार्थियों के बीच गहरा संबंध स्थापित करने के उद्देश्य से की जाती हैं।

WHO & Household Air Pollution

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों का उल्लेख किया गया है जो अशुद्ध खाना पकाने के प्रभाव का उल्लेख करते हैं। इन तथ्यों का उपयोग उम्मीदवार पीएम उज्ज्वला योजना जैसी योजनाओं की आवश्यकता का समर्थन करने के लिए कर सकते हैं:

  1. लगभग 300 करोड़ लोग खुली आग वाले साधारण चूल्हों का उपयोग करके खाना बनाते हैं जिसमें मिट्टी के तेल, बायोमास (लकड़ी, जानवरों का गोबर और फसल का कचरा) और कोयले का उपयोग होता है।
  2. घरेलू वायु प्रदूषण के कारण होने वाली बीमारी से हर साल लगभग 40 लाख लोग समय से पहले मर जाते हैं। घरेलू वायु प्रदूषण के कारणों में से एक ठोस ईंधन और मिट्टी के तेल के साथ मिलकर प्रदूषणकारी स्टोव का उपयोग करके खाना पकाने की अक्षमता है।
  3. घरेलू वायु प्रदूषण में पाया जाने वाला पार्टिकुलेट मैटर (पीएम) 5 साल से कम उम्र के बच्चों में निमोनिया से होने वाली आधी मौतों का कारण है।

डब्ल्यूएचओ घरेलू वायु प्रदूषण के प्रभाव का उल्लेख करता है जो अशुद्ध खाना पकाने के ईंधन के कारण होता है, स्वास्थ्य पर। इसमें उल्लेख है कि इस प्रदूषण के कारण 3.8 मिलियन मौतें:

  1. 27 प्रतिशत मौतें निमोनिया के कारण होती हैं।
  2. 18 प्रतिशत मौतें स्ट्रोक के कारण होती हैं।
  3. 27 प्रतिशत मौतें इस्केमिक हृदय रोग से होती हैं
  4. 20 प्रतिशत मौतें क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (COPD) से होती हैं
  5. 8 प्रतिशत मौतें फेफड़ों के कैंसर से होती हैं।

डब्ल्यूएचओ ने यह भी उल्लेख किया है कि स्वच्छ ईंधन तक पहुंच रखने वाले लोगों की कुल संख्या 2030 तक अपरिवर्तित रहने की उम्मीद है, जिससे सतत विकास के लिए 2030 एजेंडा में बाधा उत्पन्न होगी।

स्वच्छ कुकस्टोव और जलवायु स्वच्छ वायु गठबंधन के लिए वैश्विक गठबंधन वायु प्रदूषण और संबंधित स्वास्थ्य प्रभावों में सुधार के लिए डब्ल्यूएचओ द्वारा समर्थित एक अंतरराष्ट्रीय पहल है।

निष्कर्ष

प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना (PMUY) का उद्देश्य महिलाओं और बच्चों के स्वास्थ्य को स्वच्छ खाना पकाने के ईंधन – एलपीजी प्रदान करके सुरक्षित करना है, ताकि उन्हें धुएँ वाली रसोई में अपने स्वास्थ्य से समझौता न करना पड़े या जलाऊ लकड़ी इकट्ठा करने के लिए असुरक्षित क्षेत्रों में भटकना न पड़े।

पीएमयूवाई 2016 में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू की गई एक सरकारी योजना है। इस योजना में मूल रूप से गरीबी रेखा से नीचे की महिलाओं को 50 मिलियन एलपीजी कनेक्शन के वितरण की परिकल्पना की गई थी। बाद में, इसका लक्ष्य मार्च 2020 तक आठ करोड़ महिलाओं को एलपीजी कनेक्शन प्रदान करना था। हालांकि, यह लक्ष्य सात महीने पहले, सितंबर 2019 में हासिल किया गया था।

अवश्य पढ़े,

स्त्री स्वाभिमान योजना आवेदन प्रक्रियाप्रधानमंत्री फसल बीमा योजना रजिस्ट्रेशन
प्रधानमंत्री सोलर पैनल योजना का लाभप्रधानमंत्री सौभाग्य योजना ऑनलाइन आवेदन

Leave a Comment