संत रविदास शिक्षा सहायता योजना 2023: आवेदन करे

श्रम विभाग, एवं अन्य निर्माण श्रमिक कल्याण मंडलों द्वारा पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के कल्याण हेतु सरकार द्वारा अनेक योजनाएं चलाई जा रही है। इनमें संत रविदास शिक्षा सहायता योजना अत्यंत महत्वपूर्ण है। इस योजना के माध्यम से मजदूर अपने बच्चों को बेहतर शिक्षा देकर अपना भविष्य सुधार सकते हैं।

निर्माण श्रमिकों के कई बच्चे अपनी पढ़ाई छोड़ देते हैं और अपने परिवार की आर्थिक स्थिती के कारण कम उम्र में काम करना शुरू कर देते हैं। वे शैक्षिक खर्च वहन करने में सक्षम नहीं है जो आजकल बढ़ रहा है। ऐसे बच्चो की मदद के लिए उत्तर प्रदेश सरकार संत रविदास शिक्षा सहायता योजना नाम से एक योजना लेकर आई है।

Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana का संचालन एवं प्रबंधन भवन एवं अन्य निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड श्रम विभाग, उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा किया जाता है।

NOTE:- मज़दूरों की बेटियों को साइकिल बांटी जाएगी। संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के तहत उन लड़कियों को साइकिल दी जाएगी जो दसवीं और बारहवीं कक्षा में प्रवेश लि है।

Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana 2023

श्रमिकों और उनके बच्चों को आर्थिक तंगी के कारण अतीत में या फिर वर्तमान में कई समस्याओं का सामना करना पड़ा है। इसी को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने 1 मई 2017 को मजदूर दिवस के अवसर पर संत रविदास शिक्षा सहायता योजना शुरू की है।

उत्तर प्रदेश श्रम विभाग द्वारा श्रमिक दिवस पर प्रदेश के श्रमिक वर्ग को तोहफे के रूप में संत रविदास शिक्षा सहायता योजना नाम की एक नई योजना शुरू की गई है।

NOTE:-  
यह योजना निर्माण श्रमिकों के बच्चों के लिए शुरू की गई है। इस योजना के तहत, सरकार छात्रों को उनकी पढ़ाई के लिए प्रतिमाह वित्तीय सहायता प्रदान करने जा रही है।छात्रवृत्ति शिक्षा के स्तर के अनुसार प्रदान की जाएगी। लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदक को आवेदन उचित तरीके से जमा करने की आवश्यकता है।

अवश्य पढ़े, उत्तर प्रदेश कन्या विद्या धन योजना

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बिन्दु

  • संत रविदास शिक्षा सहायता योजना की पहल के पीछे उत्तर प्रदेश सरकार का प्रमुख उद्देश्य निर्माण श्रमिकों के बच्चों को वित्तीय सहायता देना और उन्हें शिक्षा प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित करना है।
  • उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड द्वारा उन मज़दूरों की बालिकाओं का चयन किया गया है जो श्रम विभाग में पंजीकृत है और योजना के तहत अपना नियमित योगदान जमा करती है।

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना का उद्देश्य

Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana का मुख्य उद्देश्य श्रमिक बालक / बालिकाओं को आर्थिक सहायता प्रदान करना है। जिससे उनकी शिक्षा में कोई भी बाधा ना पड़े और वह अपनी शिक्षा स्कूल से लेकर विश्वविद्यालय तक लगातार करते रहे।

इस योजना के अंतर्गत ₹100 से लेकर ₹5000 तक की आर्थिक सहायता राशी प्रदान की जाती है। इस योजना के माध्यम से बेरोजगारी दर में भी गिरावट आने की संभावना अधिक है। क्योंकि उत्तर प्रदेश के बच्चे बिना किसी बाधा के पढ़ाई करेंगे तो उन्हें रोजगार के अवसर प्राप्त होगा।

इसे भी पढ़े,

Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana Highlights

योजना का नामसंत रविदास शिक्षा सहायता योजना
लांच किया गयाउत्तर प्रदेश सरकार द्वारा
विभागश्रम विभाग, उत्तर प्रदेश
उद्देश्यविद्यार्थियों को छात्रवृत्ति प्रदान करना
लाभार्थीविद्यार्थी
लाभशिक्षा हेतु आर्थिक सहायता
आवेदन प्रक्रियाऑफलाइन
साल2023
आधिकारिक वेबसाइटयहां क्लिक करें

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना की विशेषताएं

  1. संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के तहत मज़दूरों के बच्चों को पढ़ाई के लिए आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।
  2. इस योजना के लाभ से मजदूर परिवार के अधिकतम दो बच्चों की परवरिश की जा सकती है।
  3. इस योजना के तहत छात्रों को तिमाही आधार पर भुगतान किया जाएगा।
  4. आवेदक के परिवार की वार्षिक आय 1,20,000 से कम होनी चाहिए।
  5. आवेदक किसी मान्यता प्राप्त स्कूल से नियमित है,तो वैसे छात्र/आवेदक किसी अन्य स्रोत/विभाग और संस्थान से छात्रवृत्ति राशि प्राप्त करने के पात्र नहीं होंगे।
  6. ₹100 से ₹5000 की सहायता राशि जिस स्तर पर पढ़ रहे हैं, उसके अनुसार प्रतिमाह प्रदान किए जाएंगे।

NOTE:-
Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana के तहत सरकारी मान्यता प्राप्त निजी स्कूल एवं किसी भी शासकीय/गैर सरकारी संस्थान में अध्ययनरत सभी पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के पुत्र- पुत्रियां के संबंध में होने वाले व्यय को वहन करने हेतु उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड द्वारा प्रत्येक माह छात्रवृत्ति दिए जाने का प्रस्ताव है।

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना की सहायता राशि

कक्षा 1 से 5 तक₹100 – प्रतिमाह
कक्षा 6 से 8 तक₹150 – प्रतिमाह
कक्षा 9 से 10 तक₹200 – प्रतिमाह
कक्षा 11 और 12₹250 – प्रतिमाह
आईटीआई एवं समक्ष परीक्षण से संबंधित पाठ्यक्रम के लिए₹500 – प्रतिमाह
पॉलिटेक्निक एवं समक्ष पाठ्यक्रमों के लिए₹800 – प्रतिमाह
इंजीनियरिंग एवं समक्ष पाठ्यक्रमों के लिए₹3000 – प्रतिमाह
मेडिकल पाठ्यक्रमों के लिए₹5000 – प्रतिमाह

इसे भी पढ़े,

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के लाभ

  • संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के तहत मज़दूरों के बच्चों को उनकी पढ़ाई के लिए आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।
  • 100 से लेकर 5,000 तक कि वित्तीय सहायता इस योजना के माध्यम से प्रतिमाह प्रदान दिए जाएंगे।
  • संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के तहत लाभ प्राप्त करने वाले बच्चों की आयु 25 वर्ष से कम होनी चाहिए।
  • इस योजना का लाभ केवल वही छात्र उठा पाएंगे जिन्हें किसी अन्य सरकारी छात्रवृत्ति योजना का लाभ नहीं मिल रहा हो। इसके लिए छात्रों से एक घोषणा पत्र भी प्राप्त किया जाएगा।
  • इस योजना के तहत लाभ प्राप्त करने वाले छात्रों की न्यूनतम उपस्थिति 60% होनी चाहिए।
  • इंजीनियरिंग और मेडिकल की डिग्री करने के लिए 78,000 और अन्य किसी विषय को आगे बढ़ाने के लिए प्रतिमाह 12,000 प्रदान किए जाएंगे। इस मामले में अधिकतम आयु सीमा 35 वर्ष होगी।
  • श्रमिक परिवार के अधिकतम दो बच्चे इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।
  • Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana के तहत लाभान्वित होने वाले बच्चे किसी ऐसे संस्थान में होने चाहिए जो केंद्र या राज्य सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त हो।
  • यूपी संत रविदास शिक्षा सहायता योजना का लाभ लेने के लिए पंजीकृत निर्माण श्रमिक उत्तर प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए।
  • इस योजना के तहत छात्रों को तिमाही आधार पर भुगतान किया जाएगा।
  • कक्षा में दाखिला लेते ही फर्स्ट किस्त का भुगतान कर दिया जाएगा।
  • संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के तहत यदि कोई छात्र परीक्षा में अनुत्तीर्ण हो जाता है तो उसे इस योजना का लाभ नहीं दिया जाएगा।
  • सरकारी मेडिकल कॉलेज में पढ़ रहे मेडिकल कोर्स के छात्र भी इस योजना का लाभ उठा सकेंगे।

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के लिए पात्रता मानदंड

  1. आवेदक को उत्तर प्रदेश का स्थायी निवासी होना अनिवार्य है।
  2. आवेदक के माता या पिता बोर्ड में पंजीकृत एक निर्माण श्रमिक हो।
  3. लाभार्थी पंजीकृत निर्माण श्रमिक उत्तर प्रदेश राज्य के मूल निवासी हो।
  4. आवेदक की आयु 25 वर्ष या उससे कम होनी चाहिए।
  5. श्रमिक के पुत्र या पुत्रियां सरकार द्वारा विधिवत स्थापित शिक्षा बोर्ड द्वारा मान्यता प्राप्त शैक्षणिक संस्थान में पढ़ रहे हो।
  6. पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के अधिकतम दो बच्चों को उच्च शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति कक्षा एक से प्रारंभ कर दी जानी है।

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड ( Aadhar card)
  • पासपोर्ट साइज की फोटो ( Passport size photo)
  • आय प्रमाणपत्र ( Income certificate)
  • स्कूल का प्रमाणपत्र ( School certificate)
  • बैंक पास बुक ( Bank passbook)
  • माता पिता का श्रमिक कार्ड ( Parent’s labor card)
  • निवास प्रमाण पत्र ( Residence certificate)
  • अंकसूची ( Marksheet )

इसे भी पढ़े, यूपी किसान आसान किस्त योजना

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना लाभों के संबंध में सामान्य निर्देश

  • छात्र ( Student) :- छात्र को तिमाही आधार पर भुगतान किया जाएगा, पहली किस्त का भुगतान कक्षा में प्रवेश के बाद किया जाएगा।
  • यदि कोई छात्र वार्षिक परीक्षा में अनुत्तीर्ण हो जाता है और उसी कक्षा में फिर से पढ़ता है, तो वह छात्रवृत्ति के लिए पात्र नहीं होगा।
  • आईटीआई पॉलिटेक्निक इंजीनियरिंग डिग्री ( ITI Polytechnic Engineering Degree) :- इस लाभ के लिए केवल वही छात्र पात्र होंगे, जिन्हें सरकारी आईटीआई पॉलिटेक्निक या इंजीनियरिंग कॉलेज, मेडिकल कॉलेज मैनेजमेंट कॉलेज में प्रवेश मिलेंगे। प्रमाण के रूप में प्रवेश पत्र और शुक्ल रसीद संकलन करनी होगी।
  • व्यावसायिक पाठ्यक्रमों में पात्रता तभी मान्य होगी जब उम्मीदवार ने राष्ट्रीय या राज्य स्तर की प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण की हो और सरकारी संस्थान में प्रवेश लिया हो।
  • संत रविदास शिक्षा सहायता योजना केवल वही छात्र लाभ उठा पाएंगे जो सरकारी कॉलेजों में पढ़ रहे हो।

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना में आवेदन कैसे करे

  • सबसे पहले अपने नजदीकी लेबर ऑफिस या तहसीलदार ऑफिस में जाएँ।
  • इसके पश्चात Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana से सम्बंधित आवेदन पत्र प्राप्त करे।
  • आवेदन पत्र में पूछी गई सभी जानकारी ध्यान पूर्वक भरे।
  • रजिस्ट्रेशन फॉर्म के साथ सभी महत्वपूर्ण दस्तावेजों को अटैच करे।
  • आवेदन पत्र लेबर ऑफिस या तहसीलदार ऑफिस में जमा करे।
  • इस प्रकार आप संत रविदास शिक्षा सहायता योजना में सफलतापूर्वक आवेदन कर पाएंगे।

शिकायत दर्ज करें

  1. इस योजना के लिए आवेदन लेने के लिए छात्रों को भवन एवं अन्य निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड श्रम विभाग, उत्तर प्रदेश सरकार की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  2. पोर्टल के होम पेज से आपको मेन्यु वार में उपलब्ध ‘हमसे संपर्क करें’विकल्प पर जाना होगा।
  3. शिकायत अनुभाग के तहत शिकायत पंजीकरण पर क्लिक करें।
  4. एक नया आवेदन फॉर्म खुल जाएगा।
  5. आवेदन पत्र का विवरण दर्ज करें और सबमिट विकल्प पर क्लिक करें।

Leave a Comment