उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना: आवेदन करे’

विवाह सामाजिक अवसर होते हैं जिन्हें भव्यता के साथ मनाया जाता है। लेकिन गरीबी के स्तर के नीचे आने वाले लोगों को विवाह समारोह की व्यवस्था करने के लिए आवश्यक धन इकट्ठा करना मुश्किल हो जाता है।

इन परिवारों की सहायता के लिए, यूपी की राज्य सरकार, एक नई योजना लेकर आई है जिसे मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना कहा जाता है। इस परियोजना का लक्ष्य चयनित दुल्हनों को वित्तीय सहायता प्रदान करना और राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में सरकारी विभागों की निगरानी में सामूहिक विवाह समारोह की व्यवस्था करना है।

उत्तर प्रदेश सामूहिक विवाह योजना की घोषणा, राज्य के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ के द्वारा 2017 के मध्य में की गई थी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जनता के स्थिती में सुधार के लिए कई कल्याणकारी योजनाओं को लागू करने के लिए जाने जाते हैं।

उत्तर प्रदेश सामूहिक विवाह योजना 2023

इस योजना को उत्तर प्रदेश सामूहिक विवाह योजना के नाम से जाना जाता है।इस योजना के अंतर्गत कमजोर परिवार की कन्याओं को विवाह के समय आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है।

आवेदक की वार्षिक आय ₹2,00,000 से अधिक नहीं होनी चाहिए एवं दुल्हन का अपना बैंक खाता होना चाहिए। विधवा या विकलांग की बेटी, विधवा या तलाकशुदा के पुनर्विवाह को प्राथमिकता दी जाएगी।

प्रति जोड़ें ₹51,000 की राशि खर्च की जाएगी जिसमें ₹35,000 सीधे दुल्हन के खाते में वित्तीय मदद के रूप में डेविड किए जाएंगे। ₹10,000 प्रति जोड़े को शादी से संबंधित उपहारों और बर्तन, कपड़े आदि पर खर्च किए जाएंगे जबकि ₹6000 प्रति जोड़े को भोजन और सजावट आदि पर खर्च किया जाएगा।

अवश्य पढ़े, उत्तर प्रदेश कन्या विद्या धन योजना

यूपी मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना का उद्देश्य 

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की गयी यूपी सामूहिक विवाह योजना का मुख्य उद्देश्य उन गरीब परिवारों के लिए वित्तीय प्रोत्साहन प्रदान करना है जो अपनी बेटी की शादी करने में असक्षम है।

यह एक कल्याणकारी योजना है एवं लाभ प्रदान करने के लिए बहुत सक्रिय है।पहले इस योजना के तहत 35,000 की वित्तीय सहायता प्रदान की जाती थी लेकिन इसे बढ़ाकर ₹51,000 कर दिया गया है।

UP Samuhik Vivah Yojana Highlights

लेखयूपी सामूहिक विवाह योजना
 राज्यउत्तर प्रदेश
 शुरू की गयीउत्तर प्रदेश द्वारा
कब शुरू हुई01/10/2017
अंतिम थिति01/10/2024
 लाभार्थीआर्थिक रूप से कमज़ोर वर्ग
 उद्देश्यबेटियों के विवाह में आर्थिक सहायता
 सहायता51,000 /-
 आवेदन प्रक्रियाऑफलाइन
 ऑफिसियल वेबसाइटhttps://sspy-up.gov.in/

इसे भी पढ़े,

उत्तर प्रदेश सामूहिक विवाह योजना की मुख्य विशेषताएं

  • गरीबों को सशक्त बनाना ( Empowering the poor) :- सामूहिक विवाह योजना का मुख्य उद्देश्य गरीब लोगों को सशक्त बनाना और उनकी सहायता करना है। आर्थिक सहायता से ये परिवार विवाह समारोह का खर्च वहन कर सकेंगे।
  • विवाह की लागत कम करना ( Reducing the cost of marriage) :- योजना का एक अन्य महत्वपूर्ण पहलू यह है कि राज्य सरकार सामूहिक विवाह समारोह आयोजित करेगी। यहाँ, एक ही समय में कई जोड़ों का विवाह होगा, इस प्रकार प्राधिकरण के लिए कुल खर्च कम हो जाएगा।
  • वधू को मैट्रिक अनुदान ( Monetary grant to the bride) :- यह घोषित किया गया है  कि प्रत्येक चयनित दुल्हन के बैंक खाते में 20,000 रुपये व्यक्तिगत रूप से जमा कर दी जाएगी।
  • विवाह के लिए अतिरिक्त राशि ( Additional amount for the marriage) :- विवाह आयोजन प्राधिकारी अतिरिक्त ₹35,000 सामूहिक विवाह समारोह में प्रत्येक जोड़े की शादी पर खर्च करेंगे।
  • दुल्हन की पोशाक के लिए पैसा ( Money for the bride’s dress) :- राज्य द्वारा प्रत्येक जोड़े पर खर्च किये जाने वाले पैसे में ₹10,000 शामिल हैं। जो विशेष रूप से दुल्हन की शादी की पोशाक खरीदने के लिए है।
  • मोबाइल फ़ोन और अन्य सामान ( Mobile phone and other accessories) :- राज्य जोड़े को शादी के लिए उपहार के रूप में नए स्मार्टफोन और घरेलू बर्तन भी प्रदान करेगा। इनके साथ ही कुछ और भी महत्वपूर्ण समान दी जाएगी।
  • जोड़ों की संख्या ( Number of couples) :- योजना में इस बात पर प्रकाश डाला गया है की सामूहिक विवाह समारोह का आयोजन तब होगा जब संगठन न्यूनतम पांच से 10 जोड़ें प्राप्त करने का प्रावधान कर लेंगे।
  • लाभार्थियों की संख्या ( Number of beneficiaries) :- परियोजना के चलने के बाद;यह 71,400 दुल्हनों के परिवारों को शादी के खर्चों को पर्याप्त रूप से पूरा करने में सहायता करेगा। ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में रहने वाली दुल्हनों को लाभ प्राप्त करने की अनुमति होगी।
  • योजना के तहत शामिल श्रेणियाँ ( Categories included under the scheme) :- इस योजना के तहत कुल उम्मीदवारों की संख्या में अनुसूचित जनजाति, अनुसूचित जाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक और सामान्य समूह भी शामिल होंगे। 30%SC/ST उम्मीदवारों, 35%OBC, 20% सामान्य और 15% अल्पसंख्यक समुदायों के उम्मीदवारों का चयन किया जाएगा।
  • समारोह का आयोजन ( Organizing the ceremony) :- UP Samuhik Vivah Yojana समारोह का आयोजन नगर पालिका, नगर पंचायत एवं नगर निगम के अधिकारी करेंगे। एनजीओ( NGOS) द्वारा इनकी मदद की जाएगी।
  • राज्य प्रयोजित योजना (State sponsored scheme) :- परियोजना के वित्त की देखभाल की जिम्मेदारी केवल उत्तर प्रदेश की राज्य सरकार पर है। सभी फंड राज्य द्वारा उत्पन्न किए जाएंगे।

उत्तर प्रदेश सामूहिक विवाह योजना के लाभ

  • बढ़ी हुई राशि ( Increased amount) :- योजना में कुछ बदलाव के साथ ही योजना की राशि 15,000 से बढ़ाकर 35,000 कर दी गई है।35,000 में से 15,000 शादी के लिए दिए जाएंगे और बाकी पैसे टैक्स के तौर पर दिए जाएंगे।
  • आर्थिक सहायता ( Financial assistance) :- इस योजना के तहत लड़की को उनकी शादी के लिए सीधे 51,000 की राशि दी जाएगी।योजना की राशि, लड़की के नाम पर जमा किया जाएगा, और इसका उपयोग केवल लड़की की शादी के लिए ही किया जा सकता है।

NOTE:- सरकार ने फैसला किया है, अगर उन्हें 10 या 10 से अधिक आवेदन मिलते हैं तो सरकार सामूहिक विवाह आयोजित करेगी।

उत्तर प्रदेश सामूहिक विवाह योजना के लिए आवंटित बजट

राज्य सरकार पहले ही बजट की घोषणा कर चुकी है और आवश्यक आवंटन कर चुकी है। उत्तर प्रदेश के वित्त मंत्री श्री राजेश अग्रवाल ने घोषणा की है कि यूपी सामूहिक विवाह योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए राज्य प्राधिकरण ने 250 करोड़ रुपये की भारी राशि आवंटित की है।

योजना कैसे काम करती है?

  •  सामूहिक विवाह योजना उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा श्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में शुरू की गई है। योजना के कार्यान्वयन में कुछ समय लगेगा क्योंकि सरकार आवश्यक परिवर्तन करेगी।
  • विभागों को अवगत करा दिए जाने के बाद सामूहिक विवाह आयोजन समिति के पदाधिकारियों का कार्य संबंधित क्षेत्रों में प्रपत्रों का सत्यापन कर लाभार्थियों की सूची तैयार करना है।
  • सूची तैयार हो जाने के बाद, उम्मीदवारों से संपर्क करने की जिम्मेदारी अधिकारी की होती है।
  • राज़ विभाग द्वारा धनराशि जारी हो जाने के बाद, सामूहिक विवाह का आयोजन गैर सरकारी संगठनों ( NGOS) की सहायता से किया जाएगा।
  • खातों में निर्दिष्ट राशि जमा की जाएगी और बाकी की व्यवस्था आयोजन शाखाओं द्वारा की जाएगी।
  • विवाह समारोह के दिन सभी जोड़ों की शादी उनके दोस्तों और परिवार की मौजूदगी में होगी। तत्पश्चात उन्हें आवंटित उपहार उनके सुखद वैवाहिक जीवन की शुभकामनाओं के साथ सौंपे जाएंगे। यह राज्य की कार्ययोजना का सिर्फ एक मोटा स्कैच है।

इसे भी पढ़े,

उत्तर प्रदेश सामूहिक विवाह योजना के लिए पात्रता मानदंड

  • यूपी का निवासी होना चाहिए (Must be residents of UP) :- राज्य सरकार से आर्थिक अनुदान प्राप्त करने के लिए आवेदक को उत्तर प्रदेश की सीमाओं के भीतर रहना होगा। यानी आवेदक को राज्य का निवासी होना चाहिए।
  • 18 वर्ष से ऊपर होना चाहिए ( Must be above 18 years) :- सरकार का लक्ष्य नाबालिग लड़कियों की शादी की घटनाओं को कम करना है। इस प्रकार, UP Samuhik Vivah Yojana की राशि उन उम्मीदवारों को दिया जाएगा जिन्होंने पहले ही 18 वर्ष की आयु पूरी कर ली हो।
  • बीपीएल प्रमाण पत्र होना चाहिए ( Must have BPL certificate) :- क्योंकि गरीब तबके का सशक्तिकरण परियोजना का प्राथमिक उद्देश्य है, इच्छुक उम्मीदवार के पास करीबी स्तर से नीचे के प्रमाण पत्र होना आवश्यक है। इसके बिना आवेदन खारिज कर दिया जाएगा।
  • आय संबंधी पात्रता ( Income related eligibility) :- इस योजना के तहत गांवों के साथ साथ शहरों के उम्मीदवार भी लाभ प्राप्त कर सकेंगे। उम्मीदवार की पारिवारिक आय ग्रामीण क्षेत्रों में ₹46,080 से अधिक नहीं होनी चाहिए और शहरी क्षेत्रों में ₹56,460 से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • 5 से 10 जोड़े कम से कम ( 5 to 10 couples at least) :- सामूहिक विवाह संबंधित क्षेत्रों के राज्य प्राधिकरण द्वारा आयोजित किए जाएंगे, यदि वे कम से कम पांच जोड़े को इकट्ठा करने में सक्षम है पहले न्यूनतम संख्या 10 थी।
  • तलाकशुदा और विधवाएं ( Divorcee and Widows) :- यदि अन्य सभी आवश्यकताओं को पूरा किया जाता है, तो यह योजना उन उम्मीदवारों को भी लाभ प्राप्त करने की अनुमति देगी जो या तो तलाकशुदा हैं या उनके पति का निधन हो गया है।

उत्तर प्रदेश सामूहिक विवाह योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • आवासीय प्रमाण ( Residential proof) :- क्योंकि केवल राज्य में रहने वाले लोगों को ही योजना का लाभ प्राप्त करने की अनुमति होगी, उनके पास उचित अधिवास या आवासीय दस्तावेज होने चाहिए। रजिस्ट्रेशन के लिए एड्रेस प्रूफ होना जरूरी है।
  • दुल्हन का आधार कार्ड ( Aadhaar card of the bride) :- इच्छुक उम्मीदवारों के पास आधार कार्ड होना आवश्यक है। आधार कार्ड के बिना उनका पंजीकरण स्वीकार नहीं किया जाएगा।
  •  उम्मीदवारों का आयु प्रमाण ( Age proof of the candidates) :- राज्य का मुख्य उद्देश्य कम उम्र में होने वाली शादियों को खत्म करना है। जन्म प्रमाणपत्र जैसे उचित आयु प्रमाण पंजीकरण फार्म के साथ संगलन होना चाहिए।
  • बीपीएल प्रमाण पत्र ( BPL certificate) :- यह योजना गरीब परिवारों को आर्थिक चिंताओं से राहत प्रदान करेगा। आवेदन के पंजीकरण के दौरान बीपीएल प्रमाण पत्र संकलन करना आवश्यक है।
  • पारिवारिक आय प्रमाण पत्र ( Family income certificate) :- आय संबंधी मानदंड के कारण उम्मीदवार को आवेदन पत्र के साथ उचित आय प्रमाण पत्र देना होगा। इनका सत्यापन राज्य प्राधिकरण द्वारा किया जाएगा।
  • विवाह दस्तावेज ( Marriage documents) :- कार्यक्रम के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए, जोड़ों को अपने विवाह पंजीकरण प्रमाणपत्र की प्रतियाँ संकलन करनी होगी। यह इस दावे का समर्थन करेगा कि वे शादी कर रहे हैं।
  • बैंक खाते का विवरण ( Bank account details) :- जो की अनुदान राशि उम्मीदवार के संबंधित बैंक खाते में स्थानांतरित की जाएगी, इसलिए एक का कब्जा ( possession) होना आवश्यक है।फॉर्म में बैंक खाते की पूरी जानकारी भी होनी चाहिए।

इसे भी पढ़े, यूपी जन्म प्रमाण पत्र ऑनलाइन आवेदन

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना फॉर्म डाउनलोड

यूपी मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के अंतर्गत लाभ प्राप्त करने के लिए सरकार द्वारा निर्धारित की गई पात्रता मानदंडों को पूरा करना अनिवार्य है। इसके बाद फॉर्म भरकर सम्बंधित कार्यलय में जमा करना होता है। आपकी समस्या हल करने के लिए निचे यूपी मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना आवेदन फॉर्म दिया गया है जिसे लिंक पर क्लिक कर डाउनलोड कर सकते है।

सामूहिक विवाह फॉर्म डाउनलोड

यूपी मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में आवेदन कैसे करे

  • सबसे पहले UP Samuhik Vivah Yojana के ऑफिसियल वेबसाइट से आवेदन फॉर्म PDF डाउनलोड करे। या सम्बंधित कार्यलय से आवेदन फॉर्म प्राप्त करे।
  • फॉर्म प्राप्त या डाउनलोड करने के बाद जानकारी ध्यान से पढ़े एवं दस्तावेज का निरक्षण करे।
  • आवेदन फॉर्म में पूछी गयी सभी जानकारी ध्यानपूर्वक भरे
  • सभी जानकारी भरने के बाद सभी आवश्यक दस्तावेज फॉर्म के साथ अटैच करे।
  • भरे हुए फॉर्म को अपने नगरीय निकाय (नगर पंचायत, नगर पालिका परिषद, नगर निगम), क्षेत्र पंचायत, जिला पंचायत स्तर पर में करे।
  • इस प्रकार UP Samuhik Vivah Yojana में सफलतापूर्वक आवेदन कर सकते है।

Leave a Comment