अन्‍त्‍योदय अन्‍न योजना 2023: ऑनलाइन आवेदन

Antyodaya Anna Yojana एक ऐसी पहल है जो गरीबों के लिए लाभदायक प्रतीत पड़ती है. हमारे देश भारत में अनेक तरह के वर्ग रहते हैं, जैसे निम्न वर्ग, मध्यम वर्ग, और उच्च वर्ग आदि. आंकड़ों के अनुसार निम्न वर्ग में रहने वाले लोग दो वक्त के भोजन के बिना सोते हैं.

भारत की कुल आबादी 138 करोड़ आसपास है. इसलिए, अंत्योदय अन्न योजना के माध्यम से जरूरतमंद लोगो तक अन्न पहुचाया जाता है..

यहाँ अंत्योदय अन्न योजना से संबंधित जानकारी जैसे अंत्योदय अन्न योजना क्या है?, इसका लाभ, उद्देश्य, विशेषताएं, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, आवेदन प्रक्रिया आदि को विस्तार से जानेंगे.

अत्योदय अन्न योजना क्या है

लक्षित सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत Antyodaya Anna Yojana भारत सरकार द्वारा उठाया हुआ एक ऐसा कदम है, जो देश से भुखमरी को खत्म करने में मददगार बनेगा. अत्योदय अन्न योजना के तहत भारत सरकार अरबों गरीब परिवार को भोजन मुहैया कराती है. 

अत्योदय अन्न योजना को और विस्तार किया गया है जिसमें अन्य बातों के साथ साथ भुखमरी के जोखिम वाले सभी परिवारों को शामिल करके 50,00,000 गरीबी रेखा से नीचे और परिवार इस योजना में शामिल किए गए हैं.

निर्गम का मानदंड जो प्रारंभ में 25 किलोग्राम प्रति परिवार प्रतिमाह था उसे 1 अप्रैल 2002 से बढ़ाकर 35 किलोग्राम प्रति परिवार प्रति माह कर दिया गया है.

अवश्य पढ़े,

परिवारों की पहचान के लिए अपनाए गए मापदंड

  • भूमि हीन कृषि मजदूर, सीमांत किसान, ग्रामीण शिल्पकार/कारीगर जैसे कुम्‍हार, चमड़ा कारीगर, बुनकर, लोहार, बढ़ई, झुग्‍गी में रहने वाले तथा अनौपचारीक क्षेत्र में दैनिक आधार पर कार्य करने वाले व्‍यक्ति जैसे दरबान, कुली, रिक्‍शा चालक, रेहड़ी वाले, फल-फूल बेचने वाले, सपेरे, कूड़ा उठाने वाले, मोची, बेसहारा और ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रों में इस तरह के अन्‍य श्रेणियों के लोग।
  • विधवाओं के परिवार या बीमार व्‍यक्ति/विकलांग/60 वर्ष या उससे अधिक आयु के व्‍यक्ति जिनके पास निर्वाह अथवा सामाजिक सहायता के लिए कोई सुनिश्चित साधन न हो।
  • विधवा या बीमार व्‍यक्ति या विकलांग व्‍यक्ति या 60 साल से अधिक के व्‍यक्ति जिनके पास निर्वाह अथवा सामाजिक सहायता के लिए कोई सुनिश्चित साधन न हो।

अन्‍त्‍योदय अन्‍न योजना के लाभ

  • इस योजना के अंतर्गत 2 रुपये किलो गेहूं और 3 रुपये किलो चावल देने का प्रावधान है.
  • निर्गम का मानदंड जो प्रारंभ में 25 किलोग्राम प्रति परिवार प्रति माह था, उसे 1 अप्रैल, 2002 से बढ़ाकर 35 किलोग्राम प्रति परिवार प्रति माह कर दिया गया है.
  • अंत्योदय कार्ड धारक सरकार की हर योजना का प्रथम वरीयता में प्राप्त करने का अधिकारी है.
  • इसका लाभ देश के अंत्योदय कार्ड धारको और दिव्यांग व्यक्तियों को प्रदान किया जायेगा.
  • आवेदक के परिवार को “अन्त्योदय राशन कार्ड” मान्यता प्राप्त करने के लिए अद्वितीय कोटा कार्ड प्रदान किया जाएंगा.
  • अत्योदय अन्न योजना के अंतर्गत 2.50 करोड़ गरीबों को कवर करने के लिए विशेष बजट का प्रावधान किया गया है.

Antyodaya Anna Yojana कब शुरू की गई?

निम्न वर्ग की आबादी के उत्थान के लिए और 1 करोड़ गरीब परिवारों के लिए दिसंबर 2000 में Antyodaya Anna Yojana शुरू की गई थी.

अन्‍त्‍योदय अन्‍न योजना का लक्ष्य –  सार्वजनिक वितरण प्रणाली को अधिक केंद्रित तथा गरीब आबादी के अत्‍यंत गरीब वर्ग तक विशेष रूप से पहुँचाना था.

अन्‍त्‍योदय अन्‍न योजना कब शुरू की गयी

Country INDIA
Prime ministerAtal Bihari Vajpayee
Launched25 december 2000

इसे भी पढ़े,

कितने प्रकार के राशन कार्ड होते हैं

अंत्योदय अन्न योजना के अनुसार 4 प्रकार के राशन कार्ड होते हैं:-

  • नीले रंग का (Blue color ) राशन कार्ड
  • गुलाबी रंग का ( pink color) राशन कार्ड
  • सफेद रंग का ( white color) राशन कार्ड
  • अत्योदय अन्न योजना ( Antyodaya Anna Yojana)

अंत्योदय अन्न योजना के लिए प्रत्रता

इस योजना का लाभ उठाने के लिए निम्न पात्रता की आवश्यकता होती है. अंत्योदय कार्ड की पात्रता इस प्रकार है.

  • ₹15,000 तक वार्षिक आय प्राप्त करने वाले परिवार Antyodaya Anna Yojana के पात्र हैं.
  •  ग्रामीण करीगार या शिल्पकार जैसे कुम्हार बुनकर, लोहार और झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले लोग भी Antyodaya Anna Yojana का लाभ उठा सकते हैं.
  •  बिना जमीन के खेतीहर मजदूर, सीमांत किसान, ग्रामीण कारीगर या शिल्पकार जैसे बुनकर, लोहार, कुम्हार और  अनौपचारिक क्षेत्र में दैनिक वेतनभोगी जैसे मोची, कूड़ा बीनने वाले, सफेरा, कूली, रिक्शा चालक, ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों में हाथ गाड़ी खींचने वाले, फल और फूल बेचने वाले, और अन्य सामान प्रकार के लोग अत्योदय अन्न योजना का लाभ ले सकते हैं.
  • ऐसे परिवार जिनका मुखिया मानसिक रूप से बीमार, विकलांग व्यक्ति, 60 वर्ष या उससे अधिक आयु के व्यक्ति या भिजवाए हैं जिनके पास निर्वाह या सामाजिक समर्थन का कोई सुनिश्चित साधन नहीं है.
  • सभी आदिवासी परिवार जो आदिम है.
  • ग्रामीण क्षेत्रों में ऐसे परिवार जिनकी वार्षिक आय ₹10,000 तक है. वो अत्योदय अन्न योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं.

राज्य सरकार गरीबी रेखा निचे जीवन यापन करने वाले गरीब परिवारों की पहचान करती हैं. और उन्हें राज्य सरकार द्वारा राशन कार्ड प्रदान किया जाता है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि योजना का लाभ सभी लोगों तक पहुंचे.

अंत्योदय अन्न योजना के लिए डाक्यूमेंट्स

Antyodaya Anna Yojana ऑनलाइन आवेदन के लिए जरूरी दस्तावेज:-

  • आधार कार्ड ( Adhar card )
  • निवास प्रमाण पत्र
  • पहचान प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट साइट फोटो
  • आय प्रमाणपत्र
  • संबंधित पटवारी द्वारा जारी किया लाभार्थी का आय प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • आवेदक के पास इस बात का कोई सबूत होना चाहिए कि उसने कोई राशन कार्ड नहीं धारण किया है.

अंत्योदय अन्न योजना के लिए आवेदन कैसे करे

Antyodaya Anna Yojana राशन कार्ड बनाने के लिए सबसे पहले आपको खाक आपूर्ति विभाग में जाकर योजना के आवेदन के लिए आवेदन फॉर्म प्राप्त करे.

आवेदन फॉर्म लेने के बाद आपको उसमें पूछी गई सभी जानकारी जैसे नाम, पता, मोबाइल नंबर आदि भरनी होगी. सभी जानकारी भरने के बाद आपको आवेदन फॉर्म में सभी जरूरी दस्तावेजों को अटैच करना होगा. उसके बाद फॉर्म को जमा कर दे.

अत्योदय अन्न योजना के अंतर्गत अधिकारीयों द्वारा दस्तावेज की जाँच की जाएगी. उसके बाद अत्योदय राशन कार्ड जारी किया जाएगा.

अंत्योदय अन्न योजना का उपयोग कैसे करें

STEP 1:- अंत्योदय अन्न  योजना की आधिकारिक  वेबसाइट यानी nfsa.gov.in पर जाए.
STEP 2:- होम पेज पर NFSA मेनू के तहत  विकल्प राशन कार्ड,, नहीं राशन कार्ड के लिए आवेदन पर क्लिक करें.
STEP 3:- राज्य/केंद्र शासित प्रदेश खाग पोर्टल पृष्ठ स्क्रीन पर प्रदर्शित किया जाएगा.

सरकार ने लोगों के कल्याण और गरीबों के हित के लिए बहुत सारी योजनाएं शुरू की है. अंत्योदय अन्न योजना गरीबो के लिए सुरक्षा और भोजन प्रदान करने के लिए बनाया गया है.

अत्योदय अन्न योजना के तहत सब्सिडी वाली प्रक्रिया में दैनिक जरूरतों के लिए भोजन और अन्य महत्वपूर्ण वस्तुएं मिलेंगे सार्वजनिक वितरण प्रणाली के माध्यम से लाभार्थी को भोजन और अन्य जरूरतें चीज़ का वितरण किया जाएगा.

Beneficiary list of – Rural Area

अंत्योदय अन्न योजना के ग्रामीण क्षेत्र के लाभार्थी:

  • राज्य सरकार और केंद्र शासित प्रदेश बारी बारी इस संख्या को विभिन्न जिलों में और आगे पंचायत और नगरपालिका को वितरित करते हैं.
  •  जिला कलेक्टर इसका व्यापक प्रचार प्रसार कर लाभार्थी की पहचान की प्रक्रिया शुरू करेंगे.
  •  ब्लॉक स्तर पर प्रत्येक पंचायत को राजरव के एक अधिकारी को सौंपा जाता है.
  •  राजरूप कार्यालय पंचायत को आवंटित कुल परिवारों को ध्यान में रखते हुए सबसे गरीब से गरीब व्यक्ति की एक अस्थायी सूची तैयार करेगा.
  •  एक बार पंचायत के लिए अस्थाई सूची तैयार हो जाने के बाद ग्राम सभा की बैठक आयोजित की जाएगी.
  •  एक बार सूची को ग्राम सभा द्वारा अनुमोदित कर दिया जाता है और इसे ब्लॉक स्तर और फिर जिला स्तर पर समेकित किया जाएगा।
  •  लाभार्थी सूची को राज्य सरकार द्वारा अनुमोदित किया जाएगा.

Beneficiary list of – Urban Area

अंत्योदय अन्न योजना के शहरी क्षेत्र के लाभार्थी:

  • लाभार्थी की पहचान शहरी स्थानीय निकायों के मुख्य कार्यकारी अधिकारी द्वारा की जाएगी
  • लाभार्थियों की प्रारंभिक सूची का व्यापक प्रचार किया जाए और आपत्तियों को आमंत्रित करते हुए वार्ड स्तर पर भी प्रदर्शित किया जाए.
  • प्रक्रिया का अध्ययन करने के बाद शहरी स्थानीय निकाय के लिए समेकित सूची और इसकी स्वीकृति प्राप्त की गई.

Antyodaya Anna Yojana List – State Wise

आंध्र प्रदेशयहाँ क्लिक करे
बिहारयहाँ क्लिक करे
छत्तीसगढ़यहाँ क्लिक करे
दिल्लीयहाँ क्लिक करे
गुजरातयहाँ क्लिक करे
हरियाणायहाँ क्लिक करे
हिमाचल प्रदेशयहाँ क्लिक करे
जम्मू कश्मीरयहाँ क्लिक करे
झारखण्डयहाँ क्लिक करे
कर्नाटकयहाँ क्लिक करे
केरलायहाँ क्लिक करे
मध्य प्रदेशयहाँ क्लिक करे
महाराष्ट्रयहाँ क्लिक करे
ओडिशायहाँ क्लिक करे
पंजाबयहाँ क्लिक करे
राजस्थानयहाँ क्लिक करे
तमिलनाडुयहाँ क्लिक करे
उत्तर प्रदेशयहाँ क्लिक करे
उत्तराखंडयहाँ क्लिक करे
वेस्ट बंगालयहाँ क्लिक करे

FAQs

Q. अंत्योदय कार्ड में क्या क्या लाभ मिलता है?

अंत्योदय राशन कार्ड के माध्यम से लाभार्थी को 35 किलो राशन यानि 20 किलो गेहूं तथा 15 किलो चावल मिलता है. इसके अंतर्गत लाभार्थी गेहूं 2 रूपये प्रति किलोग्राम और धान 3 रुपये प्रति किलोग्राम के हिसाब से खरीद सकते हैं.

Q. अंतोदय राशन कार्ड किसका बनता है?

अन्त्योदय अन्न योजना के अंतर्गत चुने गए परिवार को अंत्योदय राशन कार्ड प्रदान किया जाता है. इसके लिए, अद्वितीय कोटा कार्ड के माध्यम से अन्न उपलब्ध कराया जाता है.

Q. अंत्योदय अन्न योजना कब शुरू की गई थी?

देश में सार्वजनिक खाद्द (गेंहू और चावल) वितरण प्रणाली को गरीब लोगों तक पहुँचाने के लिए दिसम्बर 2000 में अंत्योदय योजना शुरू की गई थी.

Leave a Comment