दीनदयाल अंत्योदय योजना 2023: ऑनलाइन आवेदन

कौशल विकास के माध्यम से स्थायी आजीविका के अवसरों को बढ़ाकर शहरी गरीब लोगों के उत्थान के उद्देश्य से तीन दयाल अंत्योदय योजना की शुरुआत की गई। मेक इन इंडिया के उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए सामाजिक आर्थिक बेहतरी के लिए कौशल विकास आवश्यक है।

आवाज और शहरी गरीबी उपशमन मंत्रालय(HUPA) के तहत दीनदयाल अंत्योदय योजना शुरू की गई थी। भारत सरकार ने इस योजना के तहत 500 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। यह योजना राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन(NULM) और राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन(NRLM) का एकीकरण है।

इस पोस्ट में दीनदयाल अंत्योदय योजना से समबन्धित सभी जानकारी जैसे ऑनलाइन आवेदन, पात्रता, दस्तावेज आदि दिया गया है.

दीनदयाल अंत्योदय योजना क्या है 2023

Deendayal Antyodaya Yojana कौशल प्रशिक्षण प्रदान करके गरीबों की मदद करने के लिए भारत सरकार की एक योजना है। यह आजीविका की जगह लेती है।भारत सरकार ने इस योजना के लिए 7500 करोड़ का प्रावधान किया है। इस योजना का उद्देश्य 2016 से प्रति वर्ष शहरी क्षेत्रों में 0.5 मिलियन लोगों को प्रशिक्षित करना है।

ग्रामीण क्षेत्रों में 2017 तक 10,00,000 लोगों को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य है। इसके अलावा, शहरी क्षेत्रों में, प्रशिक्षण केंद्र, विक्रेता बाजार जैसी सेवाएं, और बेघरों के लिए स्थायी आश्रय। इस योजना का उद्देश्य अपेक्षित अंतर्राष्ट्रीय मानको के अनुसार ग्रामीण और शहरी भारत दोनों का कौशल विकास है।

अवश्य पढ़े, प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना

दीनदयाल अंत्योदय योजना का इतिहास

प्रारंभिक योजना स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना (SGSY) 1999 मैं शुरू की गई थी।2011 में इसका नाम बदलकर राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन कर दिया गया। अंत में इसे दीनदयाल अंत्योदय योजना में मिला दिया गया।

SGSY का उद्देश कुछ हाथ तक लाखों ग्रामीणों को स्वरोजगार प्रदान करना था। इस कार्यक्रम का उद्देश्य सहायता प्राप्त गरीब परिवारों को बैंक ऋण और सरकारी सब्सिडी के मिशन के माध्यम से स्वयं सहायता समूह(SHGS) मैं संगठित करके गरीबी रेखा से ऊपर लाना है।

SHGS का मुख्य उद्देश्य इन गरीब परिवारों को गरीबी रेखा से ऊपर लाना और संयुक्त प्रयास के माध्यम से आय सृजन पर ध्यान केंद्रित करना है। स्वर्ण जयंती स्वरोजगार योजना का नाम बदलकर राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन कर दिया गया और बाद में इसे Deendayal Antyodaya Yojana में बदल दिया गया। इसके साथ योजना को सर्वभौमिक, अधिक केंद्रित और गरीबी उन्मूलन के लिए समयबद्ध बनाया जाएगा।

Deendayal Antyodaya Yojana Highlights

योजना का नाम दीनदयाल अंत्योदय योजना
आरम्भ की गई2011
Short FormDAY
लाभार्थीशहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों के नागरिक
श्रेणीकेंद्र सरकारी योजनाएं
योजना के रूपNRLM / NULM
NRLM का पूर्ण रूप National Rural Livelihoods Mission
NULM का पूर्ण रूप National Urban Livelihoods Mission
आधिकारिक वेबसाइट nulm.gov.in (Urban),  nrlm.gov.in (Rural) ओर aajeevika.gov.in
Launched ByPM Narendra Modi
Launch Date25 September 2014
NRLM Launch DateJune 2011
NULM Launch Date23rd September 2013
निवेश राशि ₹500 crore
लाभमुफ्त कौशल प्रशिक्षण
उद्देश्यकौशल प्रशिक्षण के माध्यम से आय में वृद्धि
आवेदन की प्रक्रियाऑनलाइन
आधिकारिक वेबसाइटhttps://aajeevika.gov.in/

इसे भी पढ़े, प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना

दीनदयाल अंत्योदय योजना की महत्वपूर्ण बातें

  • Deendayal Antyodaya Yojana राष्ट्रीय आजीविका मिशन (एनआरएलएम) ग्रामीण विकास मंत्रालय(MORD), भारत सरकार द्वारा 1 अप्रैल 2013 से स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना (एसजीएसवाइ) के पुर्नगठित संस्करण के रूप में शुरू किया गया था। मिशन का उद्देश्य ग्रामीण गरीबों के लिए कुशल और प्रभावी संस्थागत मंच तैयार करना है जिससे वे स्थायी आजीविका संवर्धन और वित्तीय सेवाओं तक बेहतर पहुँच के माध्यम से घरेलू आय में वृद्धि कर सकें। 29 मार्च 2016 को कार्यक्रम का नाम बदलकर दीन दयाल अंत्योदय योजना(DAY-NRLM) कर दिया गया।
  • NRLM ने स्व प्रबंधित स्वयं सहायता समूह (SHGS) और संग संस्थानों के माध्यम से  देश के 600 जिलों,6000 ब्लॉक,2.5 लाख ग्राम पंचायतों और 6,00,000 गांवों में 7,00,00,000 ग्रामीण परिवारों को कवर करने और उन्हें समर्थन देने के लिए एक झंडा निर्धारित किया गया है।
  • इस योजना के तहत सरकार की तरफ से  प्रत्येक समूह को 10,000 रुपये का प्रारंभिक समर्थन दिया जायेगा और  पंजीकृत क्षेत्रों के स्तर महासंघों को 50, 000 रुपये की सहायता प्रदान की जाएगी ।
  • Deendayal Antyodaya Yojana-राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन महिला स्‍वयं सहायता समूहों को ब्‍याज भुगतान में आर्थिक सहायता उपलब्‍ध कराता है।

दीनदयाल अंत्योदय योजना का मिशन

शहरी गरीब परिवारों को लाभकारी स्वरोजगार और कुशल मजदूरी रोजगार के अवसरों तक पहुंचने में सक्षम बनाकर उनकी गरीबी और भेद्यता को कम करने के लिए, जिसके परिणामस्वरूप मजबूत जमीनी स्तर के निर्माण के माध्यम से स्थायी आधार पर उनकी आजीविका में उल्लेखनीय सुधार हुआ है।

मिशन का उद्देश्य शहरी बेघरों को चरणबद्ध तरीके से आवश्यक सेवाओं से लैस आश्रय प्रदान करना भी होगा। यह योजना उभरते बाजार के अवसरों तक पहुंचने के लिए शहरी स्ट्रीट वेंडरों को उपयुक्त स्थान संस्थागत ऋण और सामाजिक सुरक्षा और कौशल प्रदान करके शहरी पथ विक्रेताओं की आजीविका की चिंता को भी संबोधित करती है।

अवश्य पढ़े, स्त्री स्वाभिमान योजना

दीनदयाल अंत्योदय योजना का घटक

इस योजना के दो घटक है एक शहरी भारत के लिए और दूसरा ग्रामीण भारत के लिए:-

  1. Deendayal Antyodaya Yojana के नाम से शहरी घटक को आवास और शहरी गरीबी उपशमन मंत्रालय द्वारा लागू किया जाएगा।
  2. दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्या योजना नामक ग्रामीण घटक को ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा क्रियान्वित किया जाएगा।

दीनदयाल अंत्योदय योजना का उद्देश्य

MKSP का प्राथमिक उद्देश्य कृषि में महिलाओं को उनकी भागीदारी और उत्पादकता बढ़ाने के लिए व्यवस्थित निवेश करके सशक्त बनाना है, साथ ही ग्रामीण महिलाओं की कृषि आधारित आजीविका का निर्माण और उसे बनाए रखना है।MKSP के विशिष्ट उद्देश्य नियमानुसार है:-

  • कृषि में महिलाओं के उत्पादक भागीदारी को बढ़ाने के लिए
  • कृषि में महिलाओं के लिए स्थायी कृषि आजीविका के अवसर पैदा करने के लिए
  • कृषि और गैर कृषि आधारित गतिविधियों का समर्थन करने के लिए, कृषि में महिलाओं के कौशल और क्षमताओं में सुधार करना।
  • घरेलू और सामुदायिक स्तर पर खाद्य और पोषण सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए
  • महिलाओं को सरकार और अन्य एजेंसियों के इनपुट और सेवाओं तक बेहतर पहुँच के लिए सक्षम बनाना।
  • जैव विविधता के बेहतर प्रबंधन के लिए कृषि में महिलाओं की प्रबंधकीय क्षमता को बढ़ाने के लिए
  • अभीसरन ढांचे के भीतर अन्य संस्थानों और योजनाओं के संसाधनों तक पहुँचने के लिए कृषि में महिलाओं की क्षमता में सुधार करना।

दीनदयाल अंत्योदय योजना के लाभ

  • देशवासियों को स्वतंत्र एवं आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार द्वारा दीनदयाल अंत्योदय योजना का शुभारंभ किया गया।
  • Deendayal Antyodaya Yojana गरीबी को दूर करने में कारगर सिद्ध होगी।
  • दीनदयाल अंत्योदय योजना के माध्यम से लाभार्थियों को रोजगार प्राप्त करने के लिए प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा।
  • अर्बन पॉवर्टी को घटाने में यह योजना बहुत लाभकारी साबित होगी।
  • इस योजना के अंतर्गत अर्बन गरीबों को विभिन्न प्रकार के सेल्फ एंप्लॉयमेंट अपॉर्चुनिटी से भी अवगत कराया जाएगा।
  • इसके अंतर्गत सेल्फ हेल्प ग्रुप के सदस्य को प्रक्षिश्सन प्रदान किया जाएगा किया जाएगा जो माइक्रो एंटरप्रेन्योर एक्टिविटीज में शामिल है।
  • यह योजना सेल्फ हेल्प ग्रुप के सदस्य को एवं उनके परिवारों के जीवन स्तर में भी सुधार लाने में कारगर साबित होगी।

अवश्य पढ़े, सुकन्या समृद्धि योजना

दीनदयाल अंत्योदय योजना की निगरानी

मंत्रालय ने वास्तविक समय की निगरानी और योजना की नियमित प्रगति के उद्देश्य से एक ऑनलाइन वेब आधारित प्रबंधन सूचना प्रणाली एमआईएस विकसित की थी।MIS को 20 जनवरी 2015 को लॉन्च किया गया था।

MIS इस प्रशिक्षण प्रदाता ओं, प्रमाण एजेंसियो, बैंक संसाधन, संगठनों जैसे हित धारकों को आवश्यक जानकारी सीधे फीड करने में सक्षम बनाता है। जिससे शहरी स्थानीय निकायों राज्यों और एचपी मंत्रालय द्वारा निगरानी और अन्य उद्देश्यों के लिए एक्सेस किया जा सकता है।

इसके अलावा योजना के कार्यान्वयन की प्रभावी निगरानी के लिए DAY-NULM निदेशालय नियमित रूप से राज्यों/ संघ राज्यक्षेत्रों के साथ समीक्षा बैठकें और वीडियो सम्मेलन आयोजित करता है।

दीनदयाल अंत्योदय योजना की मुख्य विशेषताएं

कार्यक्रम के तहत, DAY-NRLM योजना के मौजूदा प्रावधनों के तहत समुदाय आधारित संगठनों (CBOS) को प्रदान किए गए सामुदायिक निवेश कोष (CIF) का उपयोग सार्वजनिक परिवहन सेवाओं के संचालन के लिए SHG सदस्यों की सहायता के लिए किया जाएगा। योजना को लागू करने के लिए राज्यों के पास निम्नलिखित दो विकल्प होंगे:

Option 1st
  • वाहन को उसके सीआईएफ कोष में से समुदाय आधारित संगठनों सीबीओ द्वारा वित्त पोषित किया जाएगा। वाहन को CBO द्वारा खरीदा और स्वामित्व में रखा जाएगा और एस एच डी सदस्य को पट्टे पर दिया जाएगा।
  • लाभार्थी एसएचजी सदस्य चयनित मार्ग पर वाहन का संचालन करेगा और सीबीईओ को मासिक लीज रेंटल का भुगतान करेगा। यह सुनिश्चित करने के लिए ध्यान रखा जाएगा कि निर्धारित मासिक पट्टा किराया उचित है और एसएचजी सदस्य के लिए उद्यम की व्यवहार्यता का समर्थन करता है और वाहन की लागत भी एसएचजी सदस्य से अधिकतम छह वर्षों की अवधि में वसूल की जाती है।
  • लीज रेंटल के माध्यम से लागत की वसूली करते समय ब्याज नहीं लिया जाएगा।
  • दिमाग की वार्षिक लागत सड़कर परमिट की लागत और टायरों के प्रतिस्थापन सहित रखरखाव की लागत सीबीईओ द्वारा वहन की जाएगी। ऐसी वस्तुओं के लिए अधिकतम धनराशि रुपये से अधिक नहीं होगी 2017- 18 से 2019 -20 तक योजना की अवधि के लिए प्रति सीबीईओ प्रति वाहन 2.00,00,000 इस खाते पर खर्च सीबीईओ द्वारा आवश्यकता के अनुसार किया जाएगा।
  • वाहन की चलने की लागत और नियमित रखरखाव यानी (ईंधन, तेल ,इंजन तेल, सर्विसिंग आदि) एसएचजी सदस्य द्वारा वहन किया जाएगा।
  • लीज रेंटल के माध्यम से वाहन की लागत का पूरी तरह से भुगतान करने के बाद वाहन के स्वामित्व के संबंध में निर्णय सीबीईओ द्वारा लिया जाएगा जिसमें वाहन के स्वामित्व का हस्तांतरण एसएचजी सदस्य को प्रतिफल के ली या किसी को वाहन की बिक्री के लिए किया जा सकता है।
Option 2nd
  • सीबीईओ वाहन की खरीद के लिए एसएचजी सदस्य को अपने सीआईएफ कोष से ब्याज मुक्त ऋण प्रदान करेगा।
  • SHG सदस्य अधिकतम छह वर्षों की अवधि में ऋण चुकाएगा और वाहन के संचालन से जुड़ी सभी लागतों को वहन करेगा। जिसमें बीमा की वार्षिक लागत सड़क कर, परमिट लागत, रखरखाव लागत और वाहन की अन्य सभी लागत शामिल है यानी ईंधन तेल आदि।
  • ऋण की चुकौती के बाद, वाहन का स्वामित्व एसएचजी सदस्य को हस्तांतरित कर दिया जाएगा।

इसे भी पढ़े, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन की प्रमुख प्राथमिकताएं

  • कृषि आजीविका को प्रोत्‍साहन
  • महिला स्वसहायता समूह सदस्याओं के लिये ओवरड्राफ्ट सुविधा
  • गैर-कृषि आजीविका को प्रोत्‍साहन
  • ग्रामीण हाट की स्‍थापना
  • ग्रामीण वित्तीय समावेश पर परिचर्चा
  • औपचारिक वित्‍तीय संस्‍थान तक ग्रामीण गरीबों की पहुंच सुनिश्चित करना
  • 8-10 वर्षों में आजीविका सामूहिक के लिए समर्थन
  • ग्रामीण स्‍वयं रोजगार प्रशिक्षण संस्‍थान
  • ज्ञान प्रसार, कौशल निर्माण, ऋण तक पहुंच, विपणन तक पहुंच, और अन्य आजीविका सेवाओं तक पहुंच, स्थायी आजीविका के पोर्टफोलियो का आनंद लेने में सक्षम बनाना

दीनदयाल अंत्योदय योजनाकी पात्रता एवं दस्तावेज़

  • पात्रता:
    • आवेदक भारतीय निवासी होना चाहिए।
    • शहरी और ग्रामीण दोनों गरीबों पर लक्षित है।
    • ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रो के ही गरीब लोग इस योजना के अंतर्गत शामिल हो सकते है।
  • दस्तावेज:
    • आधार कार्ड
    • पहचना पत्र
    • निवास प्रमाण पत्र
    • वोटर आईडी कार्ड
    • मोबाइल नंबर
    • पासपोर्ट साइज फोटो

दीनदयाल अंत्योदय योजना ऑनलाइन आवेदन कैसे करे?

देश के ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रो के गरीब लोग इस योजना के अंतर्गत आवेदन करना चाहते है वे निचे दिए गए steps को फॉलो करे:

  • सबसे पहले Deendayal Antyodaya Yojana के ऑफिसियल वेबसाइट पर जाएँ।
  • ऑफिसियल वेबसाइट पर इस तरह का पेज दिखाई देगा।
Antyodya Yojana
  •  होम पेज से लॉगिन के पेज पर क्लिक करे
  • लॉग इन पर क्लिक करने के बाद इस तरह का पेज open होगा
Registration Antyodya Yojana
  • लॉगिन फॉर्म के नीचे Register का ऑप्शन दिखाई देगा जैसा ऊपर दिया गया है, उस विकल्प पर क्लिक करे
  • विकल्प पर क्लिक करने के बाद अगले पेज पर रजिस्ट्रेशन फॉर्म इस प्रकार आएगा

Registration Form Antyodya Yojana
  •  फॉर्म में पूछी गयी सभी जानकारी जैसे नाम, यूजरनाम, इमेल एड्रेस, पासवर्ड, Contact Number, Secure Code आदि दर्ज करे।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद के Create New Account पर क्लिक करें।
  • अब Aajeevika Grameen Express योजना के तहत दिए गए प्रोत्साहन के लिए आवेदन कर सकते हैं।

Deendayal Antyodaya Yojana वैकेंसी प्राप्त करने की प्रक्रिया

Antyodya Yojana Career
  • इसके बाद आपके सामने एक सूची खुलेगी।
  • इस सूची में से अपनी आवश्यकता अनुसार विकल्प पर क्लिक करे।
  • जैसे ही विकल्प पर क्लिक करेंगे वैकेंसी से संबंधित जानकारी आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर प्राप्त होगी।

Deendayal Antyodaya Yojana Contact Information

इस योजना से सम्बंधित सभी आवश्यक जानकारी इस पोस्ट के माध्यम से प्रदान किया गया है. यदि अभी भी कोई संदेह शेष हो, तो निचे दिए गए फ़ोन नंबर पर या एड्रेस पर कांटेक्ट अवश्य करे.

हेल्पलाइन नंबर:- 011-23461708

पता:- Deendayal Antyodaya Yojana- National Rural Livelihood Mission (DAY-NRLM), Ministry of Rural Development, Government of India 7th floor, NDCC building-ll, Jay Singh road New Delhi- 110001

इसे भी पढ़े,

सांसद आदर्श ग्राम योजनाप्रधानमंत्री आवास योजना
प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजनासमग्र शिक्षा अभियान 2.0

Leave a Comment